Punjab Politics : बड़ी खबर- चरणजीत चन्नी होंगे पंजाब के नए मुख्यमंत्री

चरणजीत चन्नी होंगे पंजाब के नए मुख्यमंत्री

चंडीगढ़, डेस्क रिपोर्ट। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Punjab CM Captain Amarinder Singh) के इस्तीफे के बाद अब नए सीएम के नाम को लेकर सियासी हलचल तेज हो गई है।सुत्रों के मुताबित,  दलित नेता चरणजीत चन्नी पंजाब के नए मुख्यमंत्री बने। पार्टी प्रभारी हरीश रावत ने जानकारी दी। शाम साढ़े 6 बजे गवर्नर से मिलेंगे। संभावना जताई जा रही है कि वे देर शाम सीएम पद की शपथ ले सकते है। पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत ने ट्वीट करके जानकारी दी है कि चरणजीत सिंह चन्नी को विधायक दल का नेता चुन लिया गया है

यह भी पढ़े.. MP News : छात्रों के लिए काम की खबर, 30 सितंबर से पहले करें ये काम, निर्देश जारी

वही अरुणा चौधरी और भारत भूषण आशु के नाम डिप्टी सीएम के लिए तय किए गए हैं। चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री बनाए जाने के बाद सुखजिंदर रंधावा ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि वे पार्टी हाईकमान के फैसले को लेकर खुश हैं। मैं सभी विधायकों का आभारी हूं, जिन्होंने मेरा समर्थन किया और चन्नी मेरे भाई हैं। बधाई,

रंधावा अमरिंदर सरकार में जेल और सहकारिता मंत्रालय की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं और कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं में गिने जाते है। रंधावा को सिद्धू का करीबी माना जाता है। 62 साल सुखजिंदर सिंह रंधावा पंजाब के डेरा बाबा नानक सीट से विधायक हैं। इस वक्त वे राज्य सरकार में कैबिनेट मंत्री हैं और उनके पास सहकारिता और जेल विभाग है। इसके पहले सीएम के दावेदारों में सुनील जाखड़, अंबिका सोनी, वेगुगोपाल और विजय इंदर सिंगला का नाम चर्चा में बना हुआ था।

यह भी पढ़े.. उमा भारती के समर्थन में उतरे लक्ष्मण सिंह, बोले-लट्ठ लेकर आपके साथ चलने को तैयार हूं

अंबिका सोनी को सीएम पद के लिए प्रबल दावेदार माना जा रहा था, स्वास्थ्य का हवाला देते हुए कांग्रेस (Congress) की वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री अंबिका सोनी (Ambika Soni) ने पंजाब की मुख्यमंत्री बनने से इनकार किया था। सोनी फिलहाल पंजाब से राज्यसभा की सांसद हैं और यूपीए की केंद्र सरकार में संस्कृति, पर्यटन और सूचना एवं प्रसारण मंत्री का पद संभाल चुकी हैं। वह गांधी परिवार की करीबी समझी जाती रही हैं  लेकिन अंबिका ने राहुल गांधी (Rahul Gandhi) से चर्चा के बाद पंजाब का सीएम बनने से इंकार कर दिया है।हालांकि उन्होंने यह जरुर मांग की कोई सिख को ही पंजाब की जिम्मेदारी दी जाए।इसके बाद यह फैसला लिया गया है।