नई दिल्ली| सुप्रीम कोर्ट से केंद्र सरकार को बड़ी राहत मिली|  राफेल डील मामले में लगाई गई पुनर्विचार याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला आया है और कोर्ट ने सभी याचिकाएं खारिज कर दी है। सुप्रीम कोर्ट ने राफेल सौदा मामले में केंद्र सरकार को क्लीन चिट देने के उसके फैसले पर पुनर्विचार करने की मांग कर रही याचिकाओं को खारिज कर दिया। पुनर्विचार याचिका को खारिज करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हमें नहीं लगता कि राफेल विमान सौदा मामले में प्राथमिकी दर्ज करने या बेवजह जांच का आदेश देने की जरूरत है।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद भाजपा कांग्रेस पर हमलावर हो गई है| केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस को देश से औपचारिक रूप से माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने कह सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि राफेल की गुणवत्ता के बारे में किसी को सवाल नहीं है। पहले कांग्रेस चुनाव में हारी, आज फिर यहां हारे। राहुल को क्यों माफी मांगना जरूरी है, मैं अभी बताता हूं। डैसो कंपनी कहती है कि ऑफसेट रिलायंस नहीं हम तय करते हैं। हमने रिलायंस को ऑफसेट पार्टनर के तौर पर चुनते हैं। राहुल ने कहा कि फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने मोदी को चोर कहा है। ओलांद ने इसे झूठा बताया, कहा- मैंने ऐसा कुछ नहीं कहा। ऑफसेट पार्टन डैसो चुनती है।

बता दें कि मोदी सरकार को इस मामले में दिसंबर 2018 में शीर्ष कोर्ट से क्लीन चिट मिली थी। इसके बाद पुनर्विचार सुप्रीम कोर्ट में ही पुनर्विचार याचिका दायर की गई थी। इन्हीं याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट आज अपना फैसला सुनाया है। यह याचिकाएं पूर्व केंद्रीय मंत्रियों अरुण शौरी, यशवंत सिन्हा और वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण द्वारा लगाई गई थीं।

राफेल : SC ने खारिज कीं पुनर्विचार याचिकाएं, बीजेपी का हमला- राहुल गाँधी माफ़ी मांगें