कारोबारी का अपहरण कर बिटकॉइन वॉलेट से लूटे 1.3 करोड़ रुपये

इस मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। जैसे-जैसे लोगों ने अब पैसे पर्स की जगह डिजिटल वॉलेट में रखने शुरू कर दिए है, वैसे-वैसे ही असमाजिक तत्वों ने भी उन्हें लूटने का तरीका बदल लिया है। कुछ तो एक बंद कमरे से ही आपके अकाउंट को खाली कर देते है, जिसे आमतौर पर हैकिंग नाम दिया जाता है लेकिन कुछ अभी भी हथियारों के दम पर इस काम को अंजाम दे रहे है।

ताजा मामला उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ का है, जहां कुछ बदमाशों ने एक कारोबारी का अपहरण कर 1.3 करोड़ के बिटकॉइन जबरन अपने खाते में ट्रांसफर कर लिए। हालांकि, सभी आरोपी फिलहाल पुलिस की गिरफ्त में है। इस मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार किए गए इन तीन लोगों की पहचान संदीप प्रताप सिंह, विजय प्रताप सिंह और राजवीर सिंह के रूप में हुई है। पुलिस ने इनके पास से 30 हजार रुपये नकद, एक देशी पिस्टल, तीन जिंदा कारतूस, पांच मोबाइल फोन और एक कार बरामद की है।

ये भी पढ़े … क्या प्रेग्नेंट है अंकिता लोखंडे? पति संग रोमांटिक तस्वीर शेयर कर सुर्खियों में आई एक्ट्रेस

पुलिस की ओर से जारी बयान में कहा गया है गिरफ्तार आरोपियों को पहले से जानकारी थी कि यह कारोबारी क्रिप्टोकरंसी का इस्तेमाल करता है। तीनों ने कालिंदी पार्क के पास इंद्रप्रस्थ ग्रैंड के कारोबारी अर्जुन भार्गव को 7 अगस्त को बाराबंकी में प्लॉट दिखाने के बहाने अगवा किया था।

जिसके बाद उन्होंने कारोबारी को एक घर में बंधक बनाया और उसके साथ मारपीट की। फिर बन्दूक की नोक पर बिटकॉइन वॉलेट से आरोपियों ने अपने बिटकॉइन अकाउंट में 1.3 करोड़ रुपये ट्रांसफर किए।

ये भी पढ़े … ट्विटर डील कैंसिल होने के बाद एलोन मस्क खरीदेंगे मैनचेस्टर यूनाइटेड?

डीसीपी प्राची सिंह ने कहा कि अपहरणकर्ता, जिन्होंने रियल एस्टेट डीलर होने का नाटक किया, भार्गव से मिले और उन्हें बाराबंकी ले गए।

उन्होंने आगे कहा कि पीड़िता की पत्नी निधि भार्गव ने एफआईआर में कहा कि अपहर्ताओं ने उनके पति को बंदूक का डर दिखाकर पासवर्ड बताने के लिए मजबूर किया और फिर सभी बिटकॉइन अपने खाते में ट्रांसफर कर दिए।