सिंधिया ने मजाकिया अंदाज़ में किया ट्वीट का रिप्लाई, लिखा ” हा हा, उल्टा कोविड मेरा परीक्षण ले रहा है”

Atul Saxena
Published on -

Scindia replied to the tweet in a funny way : केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (Union Minister Jyotiraditya Scindia) सामान्य तौर पर रोज ट्वीट करते हैं और उनके ट्वीट (Scindia Tweet) की चर्चा भी होती है लेकिन आज उनके जिस ट्वीट की चर्चा हो रही है वो थोडा अलग है… सब जानते हैं कि केंद्रीय मंत्री सिंधिया एक बार फिर कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं, अब जब उनके समर्थकों ने इसे पोस्ट किया तो उसका गूगल ने जो ट्रांसलेशन किया वो बड़ा ही गजब है, जिसपर सिंधिया ने भी मजाकिया अंदाज में ट्वीट का रिप्लाई किया जिसकी चर्चा देश में हो रही है।

आजकल गूगल सर्च इंजन (#google search engine) पर डिपेंडेंसी बढ़ गई है, किसी को कुछ समझ नहीं आता है तो #Google की मदद लेता है लेकिन कभी कभी लोग गूगल का इस्तेमाल ट्रांसलेशन के लिए भी करते हैं लेकिन जब गूगल हिंदी में ट्रांसलेशन करता है तो कई बार ऐसी गड़बड़ हो जाती है जो अलग ही अर्थ बना देती है…ताजा उदाहरण सिंधिया से जुड़ा हुआ है।

केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया कल सोमवार को एक बार फिर कोरोना पॉजिटिव हो गए, डॉक्टर्स की सलाह पर उन्होंने कोविड टेस्ट कराया जो पॉजिटिव निकला, इसकी सूचना उन्होंने खुद ट्वीट कर दी। सिंधिया समर्थकों ने उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करते हुए ट्वीट किये।

इसी दौरान भाजपा नेता एवं झारखण्ड से पार्टी प्रवक्ता कुणाल सारंगी ने अपने ट्विटर (#Twitter) पर एक पोस्ट शेयर की,  जो सिंधिया के कोरोना पॉजिटिव होने की अंग्रेजी पोस्ट का गूगल द्वारा किया गया हिंदी ट्रांसलेशन था… इसमें लिखा था केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कोविड का परीक्षण सकारात्मक किया।

कुणाल सारंगी को पोस्ट वायरल हो गई जो सिंधिया तक भी पहुँची, जब सिंधिया ने हिंदी ट्रांसलेशन वाली पोस्ट पढ़ी तो उनकी हंसी नहीं रुकी और फिर उन्होंने मजाकिया अंदाज में इसका रिप्लाई किया .. हा हा उल्टा कोविड मेरा परीक्षण ले रहा हैं।

बहरहाल ट्वीट का हिंदी ट्रांसलेशन तो एक बानगी है ऐसे कई लोग हैं जो गूगल पर ट्रांसलेशन पर डिपेंडेंट रहते हैं इसलिए हम आपसे निवेदन करते हैं कि आप पूरी तरह से गूगल के भरोसे ना रहें अपने विवेक का इस्तेमाल करें वर्ना कभी आपके साथ अर्थ का अनर्थ हो सकता है ।


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News