नई दिल्ली।

कांग्रेस के दिग्गज नेता और पूर्व मंत्री हंसराज भारद्वाज का निधन हो गया है। वे 82 साल के थे और काफी लंबे समय से कार्डियक अरेस्ट से बीमार चल रहे थे। रविवार रात उन्होंने एक निजी अस्पताल में अंतिम सांस ली। आज सोमवार को उनका अंतिम संस्कार दिल्ली के निगम बोध घाट पर किया जाएगा।हंसराज भारद्वाज कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं में गिने जाते थे।वे राज्यपाल से  लेकर पूर्व मंत्री के पद तक रह चुके है।

भारद्वाज के परिवार में पत्नी, एक बेटा और दो बेटियां हैं। उनके परिवार ने बताया कि उन्होंने शाम करीब साढ़े छह बजे साकेत स्थित निजी अस्पताल में अंतिम सांस ली। उन्हें बुधवार को गुर्दा संबंधी परेशानियों के चलते अस्पताल में भर्ती कराया गया था। भारद्वाज के पुत्र अर्जुन भारद्वाज ने बताया कि दिवंगत कांग्रेस नेता का सोमवार को यहां निगमबोध घाट पर अंतिम संस्कार किया जाएगा।वह पिछले कुछ समय से अस्वस्थ चल रहे थे।

कई बार कांग्रेस के खिलाफ दे चुके थे बयान
भारद्वाज बगावती नेताओं में से रहे है। कई बार उन्होंने पार्टी गाइडलाइन से हटकर बयान दिया है। 2016 में उनका राहुल गांधी को लेकर दिया गया बयान काफी सुर्खियों में रहा था। उन्होंने कहा था कि राहुल गांधी को अभी सीखने की जरूरत है। राहुल गांधी जमीनी हकीकत से बहुत दूर हैं। एक अंग्रेजी अखबार को दिए गए साक्षात्कार में भारद्वाज ने कहा था कि बीजेपी से मुकाबला करने में कांग्रेस पार्टी फिलहाल काफी कमजोर है। अपने मौजूदा हालात में नरेंद्र मोदी के विजयी रथ को रोकना कांग्रेस के लिए असंभव है। नरेंद्र मोदी जैसे शक्तिशाली प्रचारक का मुकाबला करने की कांग्रेस की रणनीति एकदम बेकार है और 2014 के चुनाव में हम सब यह देख चुके हैं।

ऐसा रहा राजनैतिक सफर

-हंसराज भारद्वाज कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं में गिने जाते थे।
-भारद्वाज साल 2004 से 2009 तक केंद्रीय कानून मंत्री रहे थे।
-इसके बाद उन्हें 2009 में कर्नाटक का राज्यपाल नियुक्त किया गया था और वह 2014 तक इस पद पर रहे।
-वह कई बार राज्यसभा के सदस्य भी रहे।
-19 मई 1937 को हरियाणा में जन्मे हंसराज भारद्वाज ने यूपीए के कार्यकाल के वक्त कानून मंत्री के रूप में सबसे लंबा वक्त बिताया था।
-हंसराज भारद्वाज 22 मई 2004 से 28 मई 2009 तक कानून मंत्री रहे हैं।
– भारद्वाज दूसरे ऐसे कानून मंत्री थे, जिनका आजादी के बाद सबसे लंबा कार्यकाल रहा।
-हंसराज भारद्वाज कानून मंत्री के बाद राज्यपाल के रूप में भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं।
-भारद्वाज कर्नाटक और केरल के राज्यपाल रहे हैं।
-भारद्वाज 2009 से 2014 तक कर्नाटक के राज्यपाल रह चुके हैं।
-2012-13 तक वो केरल के राज्यपाल भी रहे हैं।
-हंसराज भारद्वाज 1982, 1994, 2000 और 2006 में राज्यसभा सदस्य भी रह चुके हैं।
-कांग्रेस नेता हंसराज भारद्वाज सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील के तौर पर भी अपनी पहचान रखते थे

कांग्रेस के दिग्गज नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री का निधन, पार्टी में शोक की लहर कांग्रेस के दिग्गज नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री का निधन, पार्टी में शोक की लहर