श्री राम जन्मभूमि ट्रस्ट को लेकर शंकराचार्य हुए नाराज

नई दिल्ली। दो पीठों के शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती अयोध्या में श्री राम मंदिर निर्माण के लिए बने ट्रस्ट को लेकर नाराज हैं ।शंकराचार्य ने कहा है कि ट्रस्ट में वासुदेवानंद सरस्वती को ज्योतिष पीठ के शंकराचार्य के रूप में जगह दी गई है जबकि वह शंकराचार्य तो दूर ,सन्यासी भी नहीं है। शंकराचार्य ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आरोप लगाते हुए कहा कि सर्वोच्च न्यायालय ने अपने 4 फैसलों में वासुदेवानंद को शंकराचार्य नहीं माना है और प्रधानमंत्री ने सुप्रीम कोर्ट की अवहेलना की है। इस ज्योतिष पीठ के शंकराचार्य मै हूं ।शंकराचार्य की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि यदि ट्रस्ट में शंकराचार्य को रखना ही था तो अध्यक्ष के रूप में उन्हें रखा जाना चाहिए था। अधिवक्ता के पाराशरण को ट्रस्ट का अध्यक्ष बनाए जाने से प्रतीत होता है कि अयोध्या में जिस राम मंदिर का निर्माण होगा वह धर्मनिरपेक्ष संविधान के अनुसार बनाया जाएगा ना कि वैदिक विधान के अनुसार। ट्रस्ट में कुछ अन्य व्यक्तियों को शामिल किए जाने को भी शंकराचार्य ने गलत बताया और कहा कि ऐसे ट्रस्ट जिसमें शासकीय व्यक्ति शामिल हैं और किसी भी धर्म स्थल के निर्माण के लिए जिम्मेदार नहीं हो सकते।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here