अमेठी पहुंच भावुक हुईं स्मृति, सुरेंद्र सिंह की अ‍र्थी को दिया कंधा, बोलीं- परिवार की जिम्मेदारी मेरी

smriti-irani-in-surendra-singh-funeral-in-amethi-up

अमेठी।

भाजपा नेता सुरेंद्र सिंह का आज बरौलिया गांव में पूरी विधि विधान से अंतिम संस्कार किया गया।इस दौरान नवनिर्वाचित सांसद और केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी सुरेंद्र सिंह ने सिंह की अर्थी को कंधा दिया।घटना के बाद से ही पूरे इलाके में गम और गुस्से का माहौल है। बेटे अभय ने  इलाके के कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर उसके पिता की हत्या का आरोप लगाया है। इससे पहले दोपहर बाद यहां पहुंची सांसद स्मृति ईरानी ने घर पहुंचकर सुरेंद्र सिंह की पत्नी बेटियां और बेटे से मुलाकात की। उन्होंने कहा कि अब इस परिवार को संभालने की जिम्मेदारी मेरी है। 

इस मामले में यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने बड़ा बयान दिया है। डीजीपी का कहना है कि हमें घटना के अहम सुराग मिले हैं। 7 लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है। हमें विश्वास है कि अगले 12 घंटे में केस की गुत्थी सुलझा ली जाएगी। पीएसी की तीन कंपनियां तैनात की गई हैं। कानून व्यवस्था का कोई मुद्दा नहीं है।

दरअसल,  उत्तर प्रदेश के अमेठी में शनिवार देर रात नवनिर्वाचित सांसद केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी  के करीबी माने जाने वाले पूर्व प्रधान सुरेंद्र सिंह  की अज्ञात बमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी।बताया जा रहा है सुरेन्द्र सिंह ने ही ईरानी का चुनाव के दौरान प्रचार किया था। घटना के बाद से ही इलाके में बवाल मचा हुआ है।मौके पर भारी पुलिस बल तैनात किया गया। पुलिस ने मामला दर्ज कर इसकी पड़ताल शुरू कर दी है । इस मामले में दो लोगों को हिरासत में लिया गया है। हत्या के पीछे क्या कारण हैं? उन्हें किसने मारा है, इसकी जानकारी नहीं है,फिलहाल पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई हैै।

अपर पुलिस अधीक्षक दया राम ने बताया कि बरौलिया गांव के पूर्व प्रधान सुरेंद्र सिंह को शनिवार रात करीब 11.30 बजे अज्ञात बदमाशों ने गोली मार दी। उन्हें गंभीर हालत में इलाज के लिए लखनऊ भेजा गया, जहां उनकी मौत हो गयी। उन्होंने बताया कि इस मामले में दो लोगो को हिरासत में लिया गया है। घटना की जांच जारी है। 

लोकसभा चुनाव के दौरान जूता वितरण प्रकरण में सुरेंद्र सिंह काफी चर्चा में रहे थे। उन्हें स्मृति ईरानी का करीबी माना जाता था। सुरेंद्र सिंह उस बरौलिया गांव के पूर्व प्रधान भी थे, जहां चुनाव प्रचार के दौरान स्मृति ईरानी ने जूते बांटे थे। इसी को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने स्मृति ईरानी पर बरौलिया गांव के लोगों को जूते बांटने का आरोप लगाते हुए इसे अमेठी के लोगों का अपमान बताया था।  हत्या के बाद उनके गांव बरौलिया में काफी कोहराम मचा हुआ है। बरौलिया का माहौल बेहद तनावपूर्ण हो गया है। इसे देखते हुए आसपास के इलाके में भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती कर दी गई है।