प्रयागराज में प्रदर्शनकारी 1000 छात्रों के खिलाफ FIR, मामला रेलवे भर्ती परीक्षा परिणामों का

रेलवे परीक्षा में धांधली के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे छात्र।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। बिहार के गया में रेलवे भर्ती परीक्षा (railway exam) के परिणामों में धांधली के खिलाफ रेल की बोगी जलाने के बाद मंगलवार को प्रयागराज (prayagraj)  में भी छात्रों ने नौकरी ना मिलने को लेकर जोरदार विरोध प्रदर्शन किया। रेलवे ट्रैक जाम किया गया ट्रेनें रोकी गई और बाद में पुलिस ने लाठीचार्ज कर छात्रों को वहां से हटाया। मामले में 6 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया है, वहीं तोड़फोड़ की वजह से 1000 लोगों पर FIR भी दर्ज हुई।

यहां भी देखें- Bhind news: प्रभारी मंत्री गोविंद सिंह राजपूत आखिर भिंड एसडीएम पर क्यों भड़के?

पुलिस ने तीन नामजद और एक हज़ार अज्ञात लोगों पर मुकदमा दर्ज किया है। मामले में मुकेश यादव,प्रदीप यादव और सोशल मीडिया पर उकसाने वाले राकेश सचान का नाम पुलिस की नजर में आया है। पुलिस राकेश सचान की तलाश में लगी है। पुलिस अपने बचाव में अराजकता फैलाने वालों के खिलाफ की गई कार्रवाई की दुहाई दे रही है लेकिन मामला रेलवे भर्ती परीक्षा में धांधली से जुड़ा हुआ नजर आ रहा है।

यहां भी देखें- Shivpuri news: खनियाधाना में गणतंत्र दिवस पर फहराया गया उल्टा झंडा 

छात्रों का कहना है कि रेलवे की एनटीपीसी ( नॉन टेक्निकल पापुलर केटेगरी) भर्ती परीक्षा के परिणाम में गड़बड़ी है। गौरतलब है कि बिहार के गया में भी इसी तरह का प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने रेल की बोगी में आग लगा दी थी। प्रदर्शनकारी छात्रों के अनुसार परीक्षा के परिणामों में धांधली की गई है और परिणाम आने के बाद सिर्फ पांच फीसदी छात्रों को ही नौकरी पर लिया गया जबकि आंकड़ा 20 फीसदी होना था।

यहां भी देखें- Dabra News : चीनौर तहसील में पदस्थ चपरासी अपने अधीनस्थ कोटवारों से कराता है मालिश, देखें वीडियो

इस मामले पर रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा है कि परीक्षा से संबंधित कोई शिकायत नहीं मिली। एक लाख 40 हजार वैकेंसी है और एक करोड़ से ज्यादा आवेदन आए थे। उन्होंने कहा, इतनी बड़ी संख्या में परिक्षार्थी हों तो एक बार में परीक्षा लेना कठिन है, इस वजह से दो लेवल किया गया था।उन्होंने छात्रों से संयम बरतने और शांति बनाए रखने की अपील करते हुए सरकारी संपत्ति को नुकसान न पहुंचाने की बात भी कही।