लापरवाही की हद! पोलियो की खुराक की जगह पिला दिया बच्चों को सैनिटाइजर

बच्चों को तुरंत वसंतराव नाईक गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल (Vasantrao Naik Government Medical College and Hospital) में भर्ती (Admit) कराया गया, जहां डॉक्टरों का कहना है कि बच्चों की हालत स्थिर है। बता दें कि मामले में कार्रवाई करते हुए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर तैनात डॉक्टर, हेल्थ कर्मी और आशा वर्कर्स को निलंबित कर दिया गया है।

महाराष्ट्र,डेस्क रिपोर्ट। महाराष्ट्र (Maharashtra) के यवतमाल (Yavatmal)  से एक लापरवाही (Negligence) का मामला सामने आया है, जहां पल्स पोलियो अभियान (Pulse polio campaign)  के तहत एक स्वास्थ्य केंद्र पर बच्चों को पोलियो की खुराक (Polio Drop) पिलाने की जगह हैंड सैनिटाइजर (Hand Sanitizer) पिला दिया गया। हैंड सैनिटाइजर (Hand Sanitizer) पिलाने का खुलासा तब हुआ, जब बच्चों को बदन में ऐठन (Body cramps) और उल्टियां (Vomiting) की परेशानी उजागर हुई।

बच्चों को तुरंत वसंतराव नाईक गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल (Vasantrao Naik Government Medical College and Hospital) में भर्ती कराया गया, जहां डॉक्टरों का कहना है कि बच्चों की हालत स्थिर है। बता दें कि मामले में कार्रवाई करते हुए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर तैनात डॉक्टर, हेल्थ कर्मी और आशा वर्कर्स को निलंबित कर दिया गया है।

ये भी पढ़े- पति बोला मुंबई में पार्टनर बदलकर करते हैं एंजॉय, वहीं चलो, महिला पहुंची पुलिस के पास

दरअसल 31 जनवरी यानि की रविवार को 1 से 5 साल की उम्र के बच्चों को देश भर में पोलियो की दवाई पिलाई गई। इसी कड़ी में महाराष्ट्र के यवतमाल में भी पल्स पोलियो टीकाकरण के कार्यक्रम का आयोजन किया गया था, जिसमें करीब 2 हजार से ज्यादा बच्चे अपने माता-पिता के साथ सुबह पोलियो बूथ पर पहुंचे थे। अधिकारियों के मुताबिक लापरवाही के चलते करीब 12 बच्चों को पोलियो की बूंद के जगह हैंड सैनिटाइजर पिला दिया गया, जिसकी वजह से बच्चों के बदन में ऐठन होने के साथ उन्हें उल्टियां होने लगी।

बच्चों को इस हाल में देखकर वहां मौजूद सभी लोग हक्के बक्के रह गए। जिसके बाद तुरंत बच्चों को इलाज के लिए वसंतराव नाईक गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल ले जाया गया। मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों का कहना है कि सभी बच्चों की हालत स्थिर है और उनमें सुधार देखा जा रहा है। लेकिन उन्हें लगातार निगरानी में रखने की जरूरत है। बच्चों की स्थिति के आधार पर ही उन्हें डिस्चार्ज किया जाएगा