कोलकाता में दुर्गा प्रतिमा को लेकर मचा बवाल, महात्मा गांधी को बनाया महिषासुर

कोलकाता के दुर्गा पंडाल में स्थापित की गई मां दुर्गा की प्रतिमा पर बवाल मच गया है।

कोलकाता, डेस्क रिपोर्ट। देशभर में नवरात्रि (Navratri) का त्योहार बड़ी ही धूमधाम से मनाया जा रहा है। जगह-जगह मां दुर्गा की आराधना की जा रही है। पश्चिम बंगाल (West Bengal) में भी दुर्गा पूजा (Durga Pooja) की धूम मची हुई है और पंडालों में माता की आराधना की जा रही है। इसी बीच कोलकाता के एक दुर्गा पंडाल में स्थापित की गई मूर्ति को लेकर बवाल मच गया है। यहां पर मां दुर्गा की प्रतिमा में महिषासुर के रूप में महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) दिखाई दे रहे हैं। यही वजह है कि यहां जमकर बवाल मचा हुआ है।

आज 2 अक्टूबर है और महात्मा गांधी की जयंती है। लेकिन हिंदू महासभा ने यहां पर जो दुर्गा प्रतिमा बैठाई है उसमें माता दुर्गा महात्मा गांधी का वध करती दिखाई दे रही हैं। बता दें कि महात्मा गांधी की जयंती को हिंदू महासभा के पदाधिकारी काला दिवस के रूप में मना रहे हैं। महासभा के पदाधिकारियों का कहना है कि बहुत सालों बाद ऐसा हुआ है जब 2 अक्टूबर को दुर्गा पूजा का त्योहार आया है और हम महात्मा गांधी को असुर के रूप में दिखाने का निर्णय ले चुके हैं।

Must Read- Mandi Bhav: इंदौर में डॉलर चना के दाम कमजोर, देखें 2 अक्टूबर 2022 का मंडी भाव

कोलकाता के रुबी पार्क के पास हिंदू महासभा की ओर से दुर्गा पूजन रखी गई है। दुर्गा पूजन के लिए प्रशासन से अनुमति भी ली गई है। हिंदू महासभा चाहती है कि दुर्गा पूजा के माध्यम से महात्मा गांधी का विरोध किया जाए इसीलिए गांधी को असुर का प्रतीक बनाया गया है। महासभा का कहना है कि गांधी ने ऐसा कुछ भी नहीं किया जिससे उन्हें राष्ट्रपिता माना जाए, उन्होंने देश का बंटवारा करवा दिया।

महासभा के पदाधिकारियों का कहना है कि महात्मा गांधी को महात्मा कहने की अगर बात करें तो उनका राजनीतिक और व्यक्तिगत जीवन ऐसा नहीं रहा है कि उन्हें महात्मा कहा जाए। अखिल भारत हिंदू महासभा पूरी तरह से गांधी जी का विरोध कर रही है यही वजह है कि यहां पर दुर्गा प्रतिमा में गांधीजी असुर के रूप में दिखाई दे रहे हैं।