Weather update: जानिए कब तक जारी रहेंगे सर्दी के तेवर ? क्‍या होता है पाला, कोल्ड- डे और सीवियर कोल्‍ड डे?

आने वाले 3 दिन तक जारी रहेंगे सर्दी के तेवर। पंजाब, हरियाणा, राजस्थान के लिए मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। समूचे उत्तर भारत सहित इस समय देश के अधिकांश हिस्सों में कड़ाके की ठंड पड़ रही है। ( Weather update)  मौसम विभाग के अनुसार यह आलम अभी और भी जारी रहेगा। कई इलाकों में रह-रहकर बारिश और ओलावृष्टि भी हो रही है। साथ में ठंडी हवाओं ने सर्दी के कहर को और बढ़ा दिया है। मौसम विभाग ने इस बीच शीत लहर का अलर्ट जारी किया है।

यहां भी देखें- MP Weather : मध्य प्रदेश के 8 जिलों में बारिश की संभावना, इन जिलों में शीतलहर के आसार

मौसम विभाग के अनुसार हरियाणा, पंजाब, चंडीगढ़ के कुछ हिस्सों में 13 से 15 जनवरी के बीच शीतलहर का प्रकोप देखा जा सकता है। पूर्वोत्तर राज्यों में राजस्थान के लिए अलर्ट जारी करते हुए शीत लहर का प्रकोप 12 से 14 जनवरी के बीच होने की चेतावनी भी मौसम विभाग ने जारी की है। मौसम विभाग के अनुसार पश्चिमी उत्तर प्रदेश और उत्तरी राजस्थान के साथ-साथ मध्यप्रदेश और गुजरात में आने वाले दिनों में कोल्ड डे के आसार बन सकते हैं। जब पारा 10 डिग्री से नीचे गिर जाएगा।

यहां भी देखें- MP Weather: इन जिलों में आज बारिश, बिजली गिरने का अलर्ट, कोहरे-शीतलहर के भी आसार

बात अगर मध्य प्रदेश की करें तो इस समय पूरे प्रदेश में कड़ाके की ठंड पड़ रही है और रात का पारा काफी नीचे गिर चुका है। बीती रात प्रदेश में दूसरे कोल्ड डे की रात थी। उज्जैन स्थित जीवाजी वेधशाला के अनुसार मंगलवार को अधिकतम तापमान 16.0 और न्यूनतम 8.4 डिग्री रहा। आर्द्रता सुबह 90 और शाम को 68 फीसदी रही। सर्दी के दिनों में इस समय हवा की रफ्तार सुबह 8 और शाम को 6 किलोमीटर प्रतिघंटा दर्ज की गई। मौसम विभाग के अनुसार आने वाले 3 दिनों में भी मौसम इसी मिजाज के साथ रहेगा।

यहां भी देखें- MP Weather: मप्र के इन जिलों में आज बारिश-ओलावृष्टि का अलर्ट, बिजली गिरने की भी चेतावनी

वेधशाला से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार पिछले सप्ताह 5 जनवरी से लेकर 11 जनवरी तक तापमान में भारी गिरावट दर्ज की गई। 6 जनवरी को अधिकतम तापमान 22.0 डिग्री था, वहीं न्यूनतम तापमान 16.4 डिग्री मापा गया था जो पूरे सप्ताह में घटकर 11 जनवरी को अधिकतम 16.0 डिग्री और न्यूनतम 8.4 डिग्री तक पहुंच गया।

तो पड़ता है पाला

आकाश साफ हो, कड़ाके की सर्दी से हवा में नमी हो, शाम होते होते हवा और जमीन का तापमान शून्य के करीब पहुंच जाए तो हवा में मौजूद नमी जल वाष्प संघनीकृत होकर ठोस अवस्था में बर्फ का रूप ले लेती है और पौधों की पत्तियों में मौजूद जल संघनित होकर बर्फ के कण के रूप में दिखाई देने लगता है। ठंड के दिनों में इस तरह की परिस्थितियों को पाला कहा जाता है। जो जीव जंतु और वनस्पतियों के लिए बेहद नुकसानदायक होता है।

कोल्‍ड और सीवियर कोल्‍ड डे

कड़ाके की ठंड का मौसम विज्ञान के अनुसार दो भागों में बांटा गया है। कोल्ड डे और सीवियर कोल्‍ड डे।

मौसम विभाग (IMD) के अनुसार न्‍यूनतम तापमान 10 डिग्री से कम और अध‍िकतम तापमान सामान्‍य से 4.5 डिग्री कम हो तो इसे कोल्‍ड-डे कहते हैं।

वहीं, जब न्‍यूनतम तापमान में 10 डिग्री से कम लेकिन अध‍िकतम तापमान में सामान्‍य के मुकाबले 6.4 डिग्री की कम हो जाए तो यह सीवियर कोल्‍ड डे माना गया है।