अब कोरोना के नए ‘Omicron’ वेरिएंट ने बढ़ाई चिंता, भारत में भी अलर्ट, जानें कितना घातक है

दक्षिण अफ्रीका में कोरोना का नया वेरिएंट सामने आया है। नए वेरिएंट सामने आने के बाद भारत सरकार अलर्ट हो गई है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। पूरी दुनिया बीते दो वर्षों से कोरोना महामारी (Covid-19) की चपेट में है। हलांकि अब इसके मामले पहले की तुलना में बेहद कम हो गए हैं, लेकिन कोरोना वायरस के अन्य वेरिएंट्स जैसे डेल्टा, डेल्टा प्लस, अल्फा वेरिएंट ने अभी भी देश भर में तहलका मचा रखा हैं। इसी बीच दुनिया के कुछ देशों में कोरोना वायरस का नया वेरिएंट सामने आया है। यह नया वेरिएंट काफी खतरनाक हो सकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोना वायरस के इस नए वेरिएंट को Omicron नाम दिया है। डब्ल्यूएचओ ने इस नए वेरिएंट को बेहद तेजी से फैलने वाला और चिंताजनक बताया है। कोरोना वायरस का नया वेरिएंट इतना खतरनाक है कि इससे दोनों टीका लगा चुके व्यक्ति के भी कोरोना संक्रमित होने का पता चला है।

ये भी देखें- वेतन में 41% की वृद्धि के बाद सरकार ने लिया बड़ा फैसला, स्थायी कर्मचारियों को लगा झटका

बता दें, शुक्रवार को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस के इस नए वेरिएंट को बी.1.1.529 कहा और इसे ओमिक्रोन नाम दिया। ये ओमिक्रोन (omicron) दक्षिण अफ्रीका से निकल कर कई देशों में फैल गया है। नया वेरिएंट दक्षिण अफ्रीका में कई हफ्तों से फैल रहा था जिसको अब WHO ने भी खतरनाक माना है। ये वेरिएंट अफ्रीकी देश दक्षिण अफ्रीका, बोत्सवाना पहुंच चुका है। एशिया के देश हॉन्ग कॉन्ग में भी केस मिल गए हैं। मिडिल ईस्ट के इजरायल और यूरोप के बेल्जियम में भी ओमिक्रोन पहुंच चुका है। इस नए वेरिएंट के मिलने से भारत सरकार ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को अलर्ट रहने के साथ निर्देश दिए हैं कि वो दक्षिण अफ्रीका, हांगकांग और बोत्सवाना से आने या जाने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की अच्छी तरह जांच करवाएं।

क्या है omicron वेरिएंट

जानकारी के अनुसार बी.1.1.529 में कई स्पाइक प्रोटीन म्यूटेशन हैं, और यह अत्यधिक संक्रामक है। इसे अब तक का सबसे ज़्यादा म्यूटेशन वाला वेरिएंट (New Covid Variant B.1.1529) बताया जा रहा है। इस वेरिएंट के सामने आने के बाद से ही चिंता बढ़ गई है, जिसको लेकर वैज्ञानिकों के सामने भी कई सवाल उठने लगे हैं कि ये नया वेरिएंट कितना संक्रामक है, वैक्सीन के बावजूद भी ये कितनी तेजी से फैल सकता है और इसे लेकर क्या करना चाहिए।