सिद्धू मूसे वाला हत्या कांड : कौन हैं लॉरेंस बिश्नोई गिरोह का गोल्डी बरार?, जिसने सिद्धू को उतारा मौत के घाट

पंजाबी सिंगर और कांग्रेस नेता सिद्धू मूसे वाला की हत्या की गुत्थी पुलिस ने सुलझानी शुरू कर दी है। हत्याकांड के पीछे कनाडा बेस्ड गैंग लॉरेंस बिश्नोई सामने आए है। गिरोह के सदस्य कनाडा के रहने वाले गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने सिद्धू मूसे वाला की हत्या की जिम्मेदारी ली है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। पंजाबी सिंगर और कांग्रेस नेता सिद्धू मूसे वाला की हत्या की गुत्थी पुलिस ने सुलझानी शुरू कर दी है। हत्याकांड के पीछे कनाडा बेस्ड गैंग लॉरेंस बिश्नोई सामने आए है। गिरोह के सदस्य कनाडा के रहने वाले गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने सिद्धू मूसे वाला की हत्या की जिम्मेदारी ली है। एक सोशल मीडिया पोस्ट में, गोल्डी बरार ने कहा कि वह और लॉरेंस बिश्नोई गिरोह मूसे वाला की हत्या में शामिल थे। गोल्डी बरार ने सोशल मीडिया पोस्ट में दावा किया कि उनके सहयोगी विक्रमजीत सिंह मिड्दुखेड़ा और गुरलाल बरार की हत्या में सिद्धू मूसे वाला का नाम सामने आया था।

जानकारी के मुताबिक, बरार ने लिखा, “आज पंजाब में मूसेवाला की मौत हो गई, मैं, सचिन बिश्नोई, लॉरेंस बिश्नोई इसकी जिम्मेदारी लेते हैं। यह हमारा काम है। मूसेवाला का नाम हमारे भाई विक्रमजीत सिंह मिड्दुखेड़ा और गुरलाल बरार की हत्या में सामने आया, लेकिन पंजाब पुलिस ने उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। हमें यह भी पता चला कि मूसेवाला हमारे सहयोगी अंकित भादू के एनकाउंटर में भी शामिल था। मूसेवाला हमारे खिलाफ काम कर रहा था। दिल्ली पुलिस ने उसका नाम लिया था लेकिन मूसेवाला ने अपनी राजनीतिक शक्ति का इस्तेमाल किया और हर बार अपने आप को बचाया।”

ये भी पढ़े … कभी ‘गद्दार’ तो कभी ‘खालिस्तान’, इन गानों की वजह से कंट्रोवर्सी में रहे पंजाबी गायक

बता दे गोल्डी बरार कनाडा में रहता हैं। वह भारत में कई आपराधिक मामलों में लिप्त रहा है। उसका असली नाम सतिंदर सिंह है और वह यूथ कांग्रेस नेता गुरलाल सिंह पहलवान की हत्या के मामले में भारत में वांटेड लिस्ट में है। इस महीने की शुरुआत में उसके खिलाफ हत्या के आरोप में गैर जमानती वारंट जारी किया गया था।

कौन हैं लॉरेंस बिश्नोई?

लॉरेंस बिश्नोई का जन्म पंजाब के फिरोजपुर जिले के अबोहर में एक संपन्न परिवार में हुआ था। बिश्नोई ने 2018 में काला हिरण शिकार मामले में दोषी सलमान खान को मारने की योजना के लिए सुर्खियां बटोरीं। पुलिस ने कहा था कि बिश्नोई काले हिरण की मौत का बदला लेना चाहता था, जिसे बिश्नोई समुदाय के बीच पवित्र माना जाता है। वह वर्तमान में राजस्थान की एक जेल में बंद है। माना जाता है कि वह जेल से मोबाइल फोन के माध्यम से अपनी अवैध गतिविधियों को अंजाम देता है।