World Cancer Day: कैंसर मरीजों के लिए विशेष हैं ये 4 सरकारी योजनाएं, फ्री में मिलती है कई सुविधाएं

Manisha Kumari Pandey
Published on -

Government Schemes: नागरिकों के लिए भारत सरकार कई योजनाएं चलाती है। बचत, सेहत और एजुकेशन के लिए अलग-अलग स्कीम्स देश में उपलब्ध है। ठीक उसी तरह स्वास्थ्य मंत्रालय कैंसर से पीड़ित मरीजों के लिए कई योजनाओं की सुविधा देता है। जिससे इस गंभीर बीमारी से जूझ रहे लोग मुफ़्त में ईलाज और अन्य कई सुविधाओं का फायदा उठा सकते हैं। आज विश्व कैंसर दिवस पर हम आपको ऐसी ही कुछ योजनाओं के बारे में बताने जा रहे हैं।

राष्ट्रीय आरोग्य निधि

इस योजना को वर्ष 1997 को स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा शुरू किया गया था। योजना के तहत गरीबी रेखा के नीचे जिनीयपन करने वाले मरीजों को आर्थिक सहायता दी जाती है। साथ ही वो सरकारी अस्पतालों में मुफ़्त में इलाज करवा करवा सकते हैं।

प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना

इस योजना को आयुष्मान भारत योजना के नाम से भी जाना जाता है। स्कीम का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के नागरिकों की देखभाल करना है। योजना के तहत कैंसर समेत कई जानलेवा और गंभीर बीमारियों के इलाज का खर्चा सरकार उठाती है।

स्वास्थ्य मंत्री के विवेकाधीन अनुदान

यह भारत सरकार की ओर से कैंसर के मरीजों के लिए सबसे पहले शुरू की गई योजना है। इस स्कीम के तहत कैंसर मरीजों को आर्थिक सहायता दी जाती है। मरीजों को 1 लाख 25 रुपये तक की राशि मुहैया करवाई जाती है। ताकि मरीज अस्पताल में भर्ती होने और इलाज का खर्चा उठा सके।

राज्य बीमारी सहायता कोष

यह भी कैंसर मरीजों के भारत सरकार द्वारा चलाई जाने वाली विशेष योजनाओं में से एक है। देश के विभिन्न राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए बीमारी सहायता कोष के तहत गंभीर बीमारी से पीड़ित मरीज 1 लाख रुपये तक की आर्थिक सहायता राशि का लाभ उठा सकते हैं।

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News