सांप्रदायिक सौहार्द की मिसाल, मुस्लिम परिवार ने शिव मांदिर के नाम की अपनी जमीन

परिवार वालों का कहना है कि सन 1976 में उनके दादा कासिम अली द्वारा मौखिक रूप से 200 गज जमीन इंद्र नगर प्रथम ब्रह्मपुरी में शिव मंदिर के नाम दी गई थी और दिवाली के मौके पर इस मुस्लिम परिवार ने जमीन का वसीयतनामा शिव मंदिर के नाम कर दिया।

मेरठ, डेस्क रिपोर्ट। उत्तर प्रदेश के मेरठ से हिंदू मुस्लिम भाईचारे की एक मिसाल सामने आई हैं, जहां एक मुस्लिम परिवार ने शिव मंदिर के लिए अपनी जमीन दान कर दी है। मेरठ के इस मुस्लिम परिवार ने सांप्रदायिक सौहार्द की मिसाल पेश की है। दिवाली के शुभ अवसर पर इस मुस्लिम परिवार ने अपनी पुश्तैनी जमीन शिव मंदिर के नाम कर दी है। परिवार वालों का कहना है कि सन 1976 में उनके दादा कासिम अली द्वारा मौखिक रूप से 200 गज जमीन इंद्र नगर प्रथम ब्रह्मपुरी में शिव मंदिर के नाम दी गई थी और दिवाली के मौके पर इस मुस्लिम परिवार ने जमीन का वसीयतनामा शिव मंदिर के नाम कर दिया।

बता दे कि बॉलीवुड एक्टर काशिफ अली के दादा जी द्वारा इस जमीन को शिव मंदिर के नाम मौखिक रूप से दिया गया था। काशिफ अली के दादा के निधन के बाद दिवाली के मौके पर उनके चाचा जी हाजी आसिफ अली द्वारा जमीन को शिव मंदिर के नाम कर दिया गया, जिसके लिए कमेटी भी बनाई गई है और मंदिर के निर्माण में हरसंभव योगदान का आश्वासन दिया गया है। बता दें कि सामाजिक सद्भाव से भरे हुए इस कदम को लेकर काशिफ अली के परिवार की प्रशंसा पूरे शहर भर में हो रही है। ज्ञात हो काशिफ अली के दादा द्वारा मस्जिद के लिए भी जमीन दान की गई है। वही मंदिर कमेटी जमीन दान से संबंधित शीला पीठ लगाने की तैयारी भी कर रही है।

वहीं काशिफ अली द्वारा किए गए इस कार्य को लेकर हिन्दू समाज के लोगों और शिव मंदिर समिति के लोगों ने काशिफ अली, उनके पिता साजिद अली और चाचा हाजी आसिम अली को शॉल ओढ़ाकर उनको सम्मानित किया। जहां एक ओर हिंदू मुस्लिम के बीच में आए दिन झगड़े की खबर सामने आती रहती है, उसी बीच मेरठ के इस मुस्लिम परिवार द्वारा उठाए गए सांप्रदायिक सौहार्द के कदम को देख हर कोई उनकी प्रशंसा करता नजर आ रहा है।

सांप्रदायिक सौहार्द की मिसाल, मुस्लिम परिवार ने शिव मांदिर के नाम की अपनी जमीन