श्योपुर।

लोकसभा चुनाव के बाद उठी संगठन में बदलाव की मांग ने झाबुआ उपचुनाव के बाद फिर जोर पकड़ लिया है। एक के बाद एक पार्टी के नेता-मंत्री संगठन में बदलाव को लेकर सवाल खड़े कर रहे है।पशुपालन मंत्री लाखन सिंह यादव के बाद अब  कांग्रेस के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष रामनिवास रावत ने बड़ा बयान दिया है। रावत ने मप्र में कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष की नियुक्ति में देरी को लेकर सवाल उठाए है।वही हाईकमान से मांग की है कि जल्द पीसीसी चीफ का फैसला करे।

दरअसल, आज श्योपुर के निजी दौरे पर पहुंचे कांग्रेस नेता रामनिवास रावत ने मीडिया से चर्चा के दौरान कहा कि मुख्यमंत्री कमलनाथ के पास काम ज्यादा है।जिसके चलते कमलनाथ संगठन पर फोकस नहीं कर पा रहे है।15  साल बाद सत्ता में आने के बाद कांग्रेस सरकार से कार्यकर्ताओं को काफी उम्मीदें है, लेकिन बार बार प्रदेश अध्यक्ष की नियुक्ति में देरी से कार्यकर्ताओं में निराशा बढ़ने लगी है। उन्होंने मांग की है कि  हाईकमान जल्द ही मप्र के अध्यक्ष का फैसला करें।

खास बात ये है कि रावत का ऐसे समय बयान सामने आया है जब कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष को लेकर दिल्ली में एक बार फिर सरगर्मी बढ़ गई है, संभावना है जल्द ही पार्टी में पीसीसी चीफ को लेकर सहमति बन सकती है|