Farmer’s Protest : संस्कारधानी में भी केंद्र सरकार के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन, बिल वापस लेने की कर रहे मांग

कृषि बिल कानून Agriculture bill) का विरोध संस्कारधानी जबलपुर (jabalpur) में भी देखा जा रहा है। जहां करीब 5 दिन पहले मझौली तहसील से शूरु हूई हजारों किसानों (Farmers) की पैदल यात्रा (Foot March) आज जबलपुर कलेक्ट्रेट पहुंची और अपर कलेक्टर को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा गया।

जबलपुर, संदीप कुमार। कृषि बिल के विरोध में जहां लाखों किसान देश की राजधानी दिल्ली में डटे हुए हैं तो वही वह किसान जो कि राष्ट्रव्यापी किसान आंदोलन (Farmer’s Protest )में शामिल नहीं हो पाए उन्होंने स्थानीय स्तर पर कृषि बिल के विरोध में अपना प्रदर्शन किया और सरकार से मांग की है कि वह किसी भी कीमत पर कृषि बिल (Agriculture Bill) को वापस ले अन्यथा पूरे देश का किसान सड़कों पर उतरने को मजबूर हो जाएगा।

मझौली से 100 किलोमीटर पैदल यात्रा कर जबलपुर पहुंचे सैकड़ों किसान

कृषि बिल कानून का विरोध संस्कारधानी जबलपुर (jabalpur) में भी देखा जा रहा है। जहां करीब 5 दिन पहले मझौली तहसील से शूरु हूई हजारों किसानों की पैदल यात्रा आज जबलपुर कलेक्ट्रेट पहुंची और अपर कलेक्टर को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा गया।  साथ ही केंद्र सरकार (Central Government) को चेताया है कि अगर कृषि बिल को सरकार वापस नहीं लेती है तो आने वाले समय में सिर्फ पैदल यात्रा ही नहीं बल्कि प्रदेश की राजधानी भोपाल से लेकर दिल्ली तक हजारों लाखों के साथ सरकार के खिलाफ प्रदर्शन (Protest) करेगी।

भारतीय किसान संगठन के बैनर तले जुटे हजारों किसान

कृषि बिल कानून को लेकर मझौली तहसील में करीब 5 दिन पहले सैकड़ों किसान ने जुड़कर पैदल यात्रा शुरू की थी, जिसको बाद में भारतीय किसान संगठन का भी सहयोग मिला और सैकड़ों की संख्या में शुरू हुई किसानों की पैदल यात्रा हजारों में बदल गई। 5 दिन बाद जबलपुर कलेक्ट्रेट पहुंचे किसानों ने साफ लफ्जो में केंद्र सरकार को चेतावनी दी है।

भारी पुलिस बल रहा तैनात

मझौली तहसील से गुरुवार की सुबह शुरू हुई किसानों की पैदल यात्रा 5 दिन बाद आज जब जबलपुर पहुंची तो कलक्ट्रेट के आस-पास के इलाके को छावनी में बदल दिया, भारी पुलिस बल के बीच किसानों ने अपना विरोध प्रदर्शन किया और अपर कलेक्टर को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा, हालांकि किसानों का यह विरोध पूरी तरह से शांतिमय रहा। अब देखना यह होगा कि मध्य प्रदेश की संस्कारधानी मैं किसानों का हुआ है प्रदर्शन आने वाले समय में कितना सफल रहेगा।