पुलिस ने पकड़ा अंतरराज्यीय ATM फ्रॉड गिरोह, 400 लोगों को बनाया था निशाना

सतना, पुष्पराज सिंह बघेल। एटीएम बूथ (ATM Booth) पर एटीएम कार्ड ( ATM Card) बदलकर धोखाधड़ी करने वाले अंतरराज्जीय गिरोह का सतना पुलिस ने पर्दाफाश किया है। यह गिरोह 4 सौ लोगों को अपना शिकार बना चुका है। गिरोह के 2 सदस्य गुजरात पुलिस के हत्थे चढ़ गए जबकि 3 को सतना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

एटीएम बूथ ( ATM Booth) पर लोगों को झांसे में लेकर उनका एटीएम बदलने वाले गिरोह का सतना पुलिस ने पर्दाफाश किया है। यह गिरोह उत्तर प्रदेश और गुजरात से ताल्लुक रखता है और  सतना और रीवा जिले में कई जगह वारदात को अंजाम दे चुका है।

पुलिस अधीक्षक धर्मवीर सिंह ने बताया कि सतना जिले के 2-3 थाना क्षेत्रों में इस तरह की घटनाएं हुई थीं। जिसमें बैंक कस्टमर का एटीएम कार्ड ( ATM Card) बदलकर धोखाधड़ी की घटनाएं हुईं थीं। उसमें हमने एक विशेष टीम बनाई थी।

डीएसपी हेडक्वार्टर हितिका वासल, थाना प्रभारी शैलेन्द्र और साइबर टीम लगाई गई थी। टीम ने लगातार काम किया और ये तथ्य जुटाए कि एक अंतरराज्जीय गैंग है जो लगातार सतना और रीवा जिलों में सक्रिय है। कल मुखबिर की सूचना के आधार पर गिरोह के 3 सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है। इसमें एक दीपक सिंह है जो प्रयागराज का रहने वाला है। इसके अलावा आकाश सिंह और शिवम गुजरात और भदोही डिस्ट्रिक्ट के रहने वाले हैं।

यह सक्रिय गैंग है इसमें 8 सदस्य हैं। इसके दो सदस्य सूरत में गिरफ्तार हुए हैं। 3 लोग अभी भी फरार हैं जो भदोही जिले के रहने वाले हैं। उनको जब हिरासत में लेकर प्रारंभिक पूछताछ की गई तो बताया गया कि विगत दो सालों से ये लोग सक्रिय हैं। विगत दो सालों में इनके द्वारा सूरत, प्रयागराज, भदोही, जौनपुर और मध्यप्रदेश के सतना, रीवा, पन्ना कटनी, शहडोल और अनूपपुर जिले में लगभग 4 सौ वारदातें की हैं। इसमें एटीएम बदलकर जो ग्राहक के साथ चीटिंग होती है.. इस तरह के 14 केस रीवा और 6 केस सतना डिस्ट्रिक्ट में रजिस्टर्ड हैं। 20 अपराधों में इनकी गिरफ्तारी की गई है।

इन अपराधों में लगभग 10 लाख रुपये का चीट होना पाया गया है। इनको रिमांड में लेकर पुलिस और जिलों के वारदातों के बारे में पूछताछ करेगी । इनके पास से अलग अलग बैंकों के करीब 30 एटीएम कार्ड्स, 50 हजार रुपये नकद, बाइक और देशी कट्टा बरामद हुआ है।