जबलपुर : जिन सर्जिकल ग्लव्स और थ्रेड की कमी हॉस्पिटल में आई, वहीं बेचे जा रहे साईकिल स्टैंड और टपरों पर

अस्पताल प्रबंधन के मुताबिक आपूर्ति कम होने की वजह से अस्पताल में कभी कभी ग्लव्स या थ्रेड की कमी हो जाती है, जिसका फायदा सड़क में दुकानें लगाने वाले लोग उठा रहे हैं। अस्पताल के आरएमओ डॉक्टर संजय मिश्रा के मुताबिक वो अपने स्तर पर व्यवस्थाओं को ठीक कर रहे हैं और मामले पर कार्रवाई के लिए उन्होने जबलपुर के एसपी को पत्र भी लिखा है।

जबलपुर, संदीप कुमार। एक तरफ सरकार अपने अस्पतालों की व्यवस्थाएं पुख्ता होने के दावे करती है और दूसरी तरफ सरकारी अस्पतालों में मरीजों को लुटने के नए-नए किस्से सामने आ रहे हैं। ताजा मामला जबलपुर के रानी दुर्गावती एल्गिन हॉस्पिटल का है, जहां अस्पताल में सर्जिकल साजो सामान की कमी का फायदा साईकिल स्टैंड से चाय-पानी के टपरे लगाने वाले उठा रहे हैं।

अस्पताल में सर्जिकल ग्लव्स और थ्रेड की कमी होने से ये साजोसामान साईकिल स्टैंड और अस्पताल के सामने लगने वाले ठेले-टपरों में बेचे जा रहे हैं। एक मरीज के परिजन की ओर से मामले की शिकायत सीएम हैल्पलाईन में भी की गई है, जिसकी पुष्टि खुद अस्पताल प्रबंधन ने की है। सीएम हैल्पलाईन में शिकायत की गई है कि ऑपरेशन थिएटर में लगने वाले जो ग्लव्स और थ्रेड अस्पताल में मिलने चाहिए उनकी यहां कमी है और ऐसे साजोसामान अस्पताल के बाहर सायकल स्टैंड और दुकानों में बेचे जा रहे हैं।

शिकायत की पुष्टि करते हुए अस्पताल प्रबंधन का कहना है कि उन्होने अनधिकृत रुप से सर्जिकल ग्लव्स और थ्रेड बेचने वालों पर कार्यवाई की मांग की है और इसके लिए जबलपुर एसपी को लिखित शिकायत भी दी है। अस्पताल प्रबंधन के मुताबिक आपूर्ति कम होने की वजह से अस्पताल में कभी कभी ग्लव्स या थ्रेड की कमी हो जाती है, जिसका फायदा सड़क में दुकानें लगाने वाले लोग उठा रहे हैं। अस्पताल के आरएमओ डॉक्टर संजय मिश्रा के मुताबिक वो अपने स्तर पर व्यवस्थाओं को ठीक कर रहे हैं और मामले पर कार्रवाई के लिए उन्होने जबलपुर के एसपी को पत्र भी लिखा है।