अहोई अष्टमी आज, संतान की लंबी आयु और सुख समृद्धि के लिए ऐसे करें व्रत

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने दी शुभकामनाएं

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। आज अहोई अष्टमी (Ahoi Ashtmi) है। ये व्रत संतान की लंबी आयु और सुखी जीवन के लिए किया जाता है। मान्यतानुसार ये व्रत बेटे के लिए किया जाता है, लेकिन अच्छी बात है कि समय से साथ अब कई महिलाएं इस व्रत को बेटे और बेटी के लिए समान रूप से रखती हैं। ये व्रत विशेष रूप से उत्तर भारत में मनाया जाता है। कार्तिक मास की अष्टमी तिथि को कृष्ण पक्ष में इस व्रत को किया जाता है। सीएम शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) ने अहोई अष्टमी की शुभकामनाएं दी हैं।

Gold Silver Rate : सोने में मामूली तेजी, नहीं बदले चांदी के दाम, देखें ताजा भाव

आज के दिन माताएं अपनी संतान के मंगलमय जीवन, सुख समृद्धि और दीर्घायु के लिए निर्जला व्रत रखती हैं। आज माता अहोई और शिव भगवान की पूजा की जाती है। लेकिन सबसे पहले श्रीगणेश का पूजन करना चाहिए। पूजन के समय बच्चों को भी अपने साथ बिठाना चाहिए। अहोई माता को दूध चावल का भोग लगाया जाता है। इसके बाद प्रसाद के रुप में अपने हाथ से बच्चों को दूध चावल खिलाए जाते हैं। माताएं रात में आकाश में तारे देखने के बाद ये व्रत खोलती हैं। आज के दिन सर्वार्थ सिद्धि योग भी बन रहा है साथ ही विजय व अभिजीत मुहूर्त के कारण इस व्रत और महत्वपूर्ण हो गया है। मान्यता है कि आज के दिन व्रत रखने से बच्चों के जीवन में चल रहे संकट समाप्त हो जाते हैं, उन्हें धन व यश प्राप्त होता है और उनकी आयु बढ़ती है।

अहोई अष्टमी पर जमीन पर गोबर लीपकर कलश की स्थापना की जाती है। दीवार पर गेरू से अहोई माता के साथ साही और उनके सात पुत्रों की तस्वीर बनाई जाती है। अगर पुत्र के विवाह ती कामना है तो “ऊँ ह्रीं उमाये नमः” मंत्र का जाप करें, संतान को अपने हाथों से गुड़ खिलाएं और उसके गले में चेन पहनाएं व आशीष दें। बच्चों के सुख सम्पन्नता या उनके लिए संतान प्राप्ति चाहते हैं तो एक धागे में मोती पिरोकर माला बनाएं और ये पूजा में चढ़ाएं। इसके बात ये माला पुत्रवधु को पहना दें।