Astrology: जानिए महिलाओं के गाली देने से कौन सा ग्रह होता है खराब, झेलने पड़ सकते हैं दुष्परिणाम

बता दें कि अपशब्दों का प्रयोग करने से नकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न होती है जो ग्रहों की स्थिति को बिगाड़ सकती है। आइए जानते हैं विस्तार से यहां...

Sanjucta Pandit
Published on -
Rashifal

Astrology : गाली-गलौज या अपशब्दों का इस्तेमाल करना न सिर्फ एक सामाजिक और व्यक्तिगत स्तर पर गलत माना जाता है। इसे ज्योतिष के दृष्टिकोण से भी नकारात्मक माना जाता है। जब कोई महिला लगातार अपशब्दों का प्रयोग करती है, तो उसकी छवि समाज में नकारात्मक हो जाती है। इससे उसका सम्मान कम होता है और लोग उससे दूरी बनाने लगते हैं। ज्योतिष के अनुसार, हमारी वाणी और शब्दों का प्रयोग ग्रहों पर भी प्रभाव डालता है। बता दें कि अपशब्दों का प्रयोग करने से नकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न होती है जो ग्रहों की स्थिति को बिगाड़ सकती है। आइए जानते हैं विस्तार से यहां…

astrology

पढ़ें

  • मंगल ग्रह ऊर्जा, साहस और आक्रामकता का प्रतिनिधित्व करता है। इसलिए महिलाओं के गाली-गलौज करने से मंगल ग्रह की नकारात्मक ऊर्जा बढ़ सकती है, जिससे वह चिड़चिड़ा हो सकता है।
  • शनि ग्रह न्याय, कर्मदाता माना जाता है। इसलिए अपशब्दों का प्रयोग करने से शनि का प्रकोप बढ़ सकता है, जिससे उसके जीवन में बाधाएं, संघर्ष और कष्ट बढ़ सकते हैं। साथ ही मानसिक तनाव और उदासी भी बढ़ सकती है।
  • ज्योतिष शास्त्र में बुध ग्रह को वाणी, बुद्धि, संवाद और शिक्षा का प्रतीक माना जाता है। इसके कमजोर होने से व्यक्ति की वाणी और बुद्धि में दिक्कत आती है, जिससे उसकी सोचने की क्षमता कम हो जाती है।

(Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है। MP Breaking News किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है। किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें।)


About Author
Sanjucta Pandit

Sanjucta Pandit

मैं संयुक्ता पंडित वर्ष 2022 से MP Breaking में बतौर सीनियर कंटेंट राइटर काम कर रही हूँ। डिप्लोमा इन मास कम्युनिकेशन और बीए की पढ़ाई करने के बाद से ही मुझे पत्रकार बनना था। जिसके लिए मैं लगातार मध्य प्रदेश की ऑनलाइन वेब साइट्स लाइव इंडिया, VIP News Channel, Khabar Bharat में काम किया है। पत्रकारिता लोकतंत्र का अघोषित चौथा स्तंभ माना जाता है। जिसका मुख्य काम है लोगों की बात को सरकार तक पहुंचाना। इसलिए मैं पिछले 5 सालों से इस क्षेत्र में कार्य कर रही हुं।

Other Latest News