भूलकर भी इन रत्नों को एक साथ ना करें धारण, फायदे की जगह हो जाएगा नुकसान

ratna shastra

Gemstones: व्यक्ति के जीवन में होने वाले घटनाक्रम उसकी कुंडली में मौजूद ग्रहों की स्थिति के आधार पर तय होते हैं। अगर ग्रह सही दिशा और कक्षा में होते हैं तो अनुकूल परिस्थितियां बनती है। वहीं अगर ग्रह नक्षत्र की चाल विपरीत हो जाए तो व्यक्ति के जीवन पर इसका गहरा असर देखने को मिलता है। हालांकि, ज्योतिष में ग्रहों की अशुभ स्थिति से बचने के कई तरह के उपाय दिए गए हैं। अगर इन उपायों का सही तरीके से पालन किया जाए तो व्यक्ति को सारी परेशानियों से छुटकारा मिल जाता है।

ज्योतिष की महत्वपूर्ण शाखा रत्न शास्त्र में कई रत्नों की जानकारी दी गई है। इसके मुताबिक हर ग्रह को शांत करने के लिए इसका एक रत्न होता है जो परिस्थितियों को अनुकूल बनाने के काम आता है। अगर जातक राशि के अनुसार ज्योतिष की सलाह पर रत्न को धारण करे तो उसके जीवन में चल रही परेशानियों का अंत हो जाता है। यह जरूरी नहीं है कि आप जो रत्न धारण कर रहे हैं वह आपको अच्छे परिणाम दे इसलिए कुछ भी पहनने से पहले ज्योतिष की सलाह लेना बहुत आवश्यक है।

आपको राशि के अनुसार कौन सा रत्न धारण करना चाहिए यह तो ज्योतिष की सहायता से आप आसानी से पता लगा सकते हैं। लेकिन आपको कौन से रत्न को किसी दूसरे रत्न के साथ धारण नहीं करना चाहिए इस बात का ध्यान रखना भी बहुत जरूरी है। ऐसा इसलिए क्योंकि कई ग्रह एक दूसरे के शत्रु माने जाते हैं और अगर इनके रत्न का आपस में मेल होता है तो यह व्यक्ति के जीवन पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं। चलिए आज आपको ऐसे रत्नों की जानकारी देते हैं, जिन्हें आपको एक साथ नहीं पहनना चाहिए।

पुखराज

अगर आप बृहस्पति का रत्न पुखराज धारण कर रहे हैं तो इसके साथ कभी भी गोमेद हीरा, पन्ना और नीलम धारण न करें। बृहस्पति जहां गुरु ग्रह का तो यह बाकी सभी रत्न शुक्र ग्रह के माने जाते हैं और गुरु और शुक्र एक दूसरे के परम शत्रु हैं।

हीरा

अगर आपने हीरा धारण किया है तो किसी भी परिस्थितिवश आपको इसके साथ पुखराज कभी भी धारण नहीं करना है, वरना विपरीत परिणाम मिल सकते हैं।

पन्ना

जो लोग पन्ना धारण करते हैं या करने वाले हैं उन्हें इसके साथ मूंगा, पुखराज और मोती नहीं पहनना चाहिए। इससे अशुभ योग बनते हैं।

माणिक

माणिक रत्न काफी लाभकारी माना गया है और व्यक्ति की सफलता में यह सिद्ध साबित होता है। इस रत्न का स्वामी सूर्य ग्रह है यही कारण है कि इसे हीरा और नीलम के साथ नहीं पहनना चाहिए। हीरे का गृह स्वामी शुक्र और नीलम का शनि है इसलिए आपस में इनका मेल अच्छा नहीं होता।

मूंगा

मंगल ग्रह की शांति और इसे अनुकूल बनाने के लिए लोगों को मूंगा रत्न धारण करने की सलाह दी जाती है। बुध, शुक्र, शनि राहु और केतु मंगल के शत्रु ग्रह है। यही कारण है कि मूंगा के साथ गोमेद, पन्ना, हीरा, नीलम और लहसुनिया धारण नहीं करना चाहिए।

Disclaimer- यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं के आधार पर बताई गई है। MP Breaking News इसकी पुष्टि नहीं करता।


About Author
Diksha Bhanupriy

Diksha Bhanupriy

"पत्रकारिता का मुख्य काम है, लोकहित की महत्वपूर्ण जानकारी जुटाना और उस जानकारी को संदर्भ के साथ इस तरह रखना कि हम उसका इस्तेमाल मनुष्य की स्थिति सुधारने में कर सकें।” इसी उद्देश्य के साथ मैं पिछले 10 वर्षों से पत्रकारिता के क्षेत्र में काम कर रही हूं। मुझे डिजिटल से लेकर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का अनुभव है। मैं कॉपी राइटिंग, वेब कॉन्टेंट राइटिंग करना जानती हूं। मेरे पसंदीदा विषय दैनिक अपडेट, मनोरंजन और जीवनशैली समेत अन्य विषयों से संबंधित है।

Other Latest News