पूजा के दौरान दीपक बुझना देता है अशुभ संकेत, करें ये उपाय

Sanjucta Pandit
Published on -

Puja Path Tips : हिन्दू धर्म में पूजा और आरती का महत्वपूर्ण स्थान है लेकिन दीपक का अचानक बुझ जाना अशुभ समझा जाता है जो कि विभिन्न कारणों से हो सकता है। धार्मिक दृष्टिकोण से दीपक के अचानक बुझ जाने को अपशकुन माना जाता है और यह घर में नकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक माना जाता है। यह लोगों को डराता है कि कुछ बुरा हो सकता है या किसी अशुभ घटना का संकेत हो सकता है।

पूजा के दौरान दीपक बुझना देता है अशुभ संकेत, करें ये उपाय

अशुभ संकेत

दीपक बुझ जाने से देवी-देवता नाराज हो सकते हैं और पूजा का पूरा फल नहीं मिल सकता। इसके अलावा, यह भी माना जाता है कि दीपक का बुझना इस बात की ओर इंगीत कर सकता है कि पूजा करने वाला व्यक्ति सच्चे मन से भगवान की पूजा नहीं कर रहा है और उसकी मनोकामनाएँ पूरी नहीं हो सकतीं।

महत्व

दीपक जलाने का प्राचीन और मान्यताओं से संबंधित महत्व है, जो हिन्दू धर्म में गहरी धार्मिक और सांस्कृतिक मान्यताओं का हिस्सा हैं। दीपक की ज्योति को आध्यात्मिक प्रतीक माना जाता है। इसके जलाने से आध्यात्मिक सुख और शांति प्राप्त होती है। दीपक का इस्तेमाल पूजा, हवन, पाठ और अन्य धर्मिक कार्यक्रमों में किया जाता है। इसके जलने से घर में मौजूद निगेटिव ऊर्जाएं दूर होती है। यह घर में शांति, सुख और समृद्धि आती है।

ये करें उपाय

दीपक में पर्याप्त मात्रा में तेल या घी रखना जरूरी है ताकि दीपक बिना बुझे ज्योतिर्मय रहे। दीपक की बत्ती को अच्छे से बनाएं। पूजा के समय पंखा बंद कर दें क्योंकि हवा की गति से दीपक के जलने का प्रभाव पड़ सकता है। दीपक के आसपास कोई आड़ बनाने से उचित हवाओं का प्रवाह रोका जा सकता है, जिससे दीपक जलने के दौरान न बुझे।


About Author
Sanjucta Pandit

Sanjucta Pandit

मैं संयुक्ता पंडित वर्ष 2022 से MP Breaking में बतौर सीनियर कंटेंट राइटर काम कर रही हूँ। डिप्लोमा इन मास कम्युनिकेशन और बीए की पढ़ाई करने के बाद से ही मुझे पत्रकार बनना था। जिसके लिए मैं लगातार मध्य प्रदेश की ऑनलाइन वेब साइट्स लाइव इंडिया, VIP News Channel, Khabar Bharat में काम किया है। पत्रकारिता लोकतंत्र का अघोषित चौथा स्तंभ माना जाता है। जिसका मुख्य काम है लोगों की बात को सरकार तक पहुंचाना। इसलिए मैं पिछले 5 सालों से इस क्षेत्र में कार्य कर रही हुं।

Other Latest News