Grah Gochar: 12 साल बाद होली पर बन रहा है महासंयोग, इन 3 राशि के लोगों को होगा लाभ, चमकेगी किस्मत

Astrology Zodiac Sign

Grah Gochar Holi 2023: इस साल होली पर करीब 12 सालों बाद गुरु और शुक्र की युति (Guru Shukra Yuti) हो रही है। धन, समृद्धि और प्रेम के स्वामी शुक्र हैं। और गुरु को विवाह, धर्म-क्रम और सौभाग्य का स्वामी माने जाते हैं। होलिका दहन और होली पर मीन राशि में गुरु-शुक्र की युति होगी। जिसका असर सभी राशियों पर होगा। किसी के लिए यह शुभ तो किसी के लिए अशुभ होगा। कुछ के लिए यह सौभाग्य के द्वार खोलेगा। साथ ही धन लाभ होगा। देवी-देवता भी इन राशि के लोगों पर मेहरबान होंगे।

वृष राशि

वृष राशि के जातकों के लिए गुरु और शुक्र की युति बहुत ही लाभ दायक होगी। धन की वृद्धि होगी। समाज में मान-सम्मान बढ़ेगा। सहकर्मियों का सहयोग मिलेगा। सैलरी में बढ़ोत्तरी हो सकती है। नए नौकरी के अवसर मिलेंगे। साथ ही प्रोमोशन भी हो सकता है। 7 मार्च और 8 मार्च कोई भी कार्य का आरंभ करने के लिए शुभ समय हो सकता है।

वृश्चिक राशि

इस राशि के जातकों के अच्छे दिन हो सकते हैं। जीवनसाथी के साथ संबंध अच्छे होंगे। सुख और समृद्धि में भी वृद्धि होगी। धन लाभ के योग बन रहे हैं। नए वाहन और घर की खरीददारी हो सकती है। प्रेमियों के लिए यह समय शुभ होगा। कार्य क्षेत्र और कारोबार में लाभ होगा।

मेष राशि

गुरु-शुक्र का मीन राशि में मिलन मेष राशि के जातकों के लिए बेहद ही शुभ रहेगा। शिक्षा और करियर के क्षेत्र में लाभ होगा। इनकम में वृद्धि हो सकती है। कहीं से अचानक धन लैब होगा। कार्यक्षेत्र में मान-सम्मान बढ़ सकता है। आर्थिक समस्याएं दूर हो सकती हैं। कहीं अटका हुआ पैसा वापस मिल सकता है।

(Disclaimer: इस लेख का उद्देश्य केवल जानकारी साझा करना है, जो मन्यताओं पर आधारित है। MP Breaking News इन बातों की पुष्टि नहीं करता)


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News