किसने पहली बार बांधी थी राखी? यहां जानें रक्षाबंधन से जुड़ी कई प्रचलित कहानियां

Avatar
Published on -
indore central jail, Raksha Bandhan

History of Raksha Bandhan : हर भाई बहन के लिए रक्षाबंधन का दिन बेहद खास माना जाता है। इस दिन बहनें अपने भाई की कलाई पर राखी बांधती हैं और उनकी लंबी उम्र के लिए कामना करती है। यह त्यौहार भारत के हर शहर में धूमधाम के साथ मनाया जाता है। इस त्यौहार को सावन पूर्णिमा के दिन हर साल मनाया जाता है।

इस बार रक्षाबंधन का त्योहार 30 अगस्त के दिन मनाया जाने वाला है। रक्षाबंधन के त्यौहार को लेकर कई सारी कहानियां प्रचलित है। आज हम आपको उन्हीं में से कुछ खास कहानियां बताने जा रहे हैं जो काफी ज्यादा प्रचलित है। उन कहानियों को सदियों से लोग एक दूसरे को सुनाते आ रहे हैं। चलिए जानते हैं रक्षा बंधन से जुड़ी कुछ प्रचलित कहानियां –

Raksha Bandhan से जुड़ी कुछ प्रचलित कहानियां

द्रौपदी ने बांधी थी श्री कृष्ण को राखी 

रक्षाबंधन के त्यौहार को लेकर कई सारी कहानियां प्रचलित है। पहली कहानी में कहा जाता है कि सबसे पहली राखी द्रौपदी ने भगवान कृष्ण को महाभारत काल के दौरान बांधी थी। जी हां जब इंद्रप्रस्थ में शिशुपाल का वध करने के लिए भगवान कृष्ण ने सुदर्शन चक्र चलाया था तब उनकी एक उंगली कट गई थी। उनकी उंगली से काफी ज्यादा खून बह रहा था।

उसी दौरान द्रौपदी ने अपनी साड़ी का पल्लू फाड़कर श्रीकृष्ण की उंगली पर बांध किया था। इस दिन सावन की पूर्णिमा थी। तभी भगवान कृष्ण द्रौपदी से बेहद प्रसन्न हुए और उन्होंने द्रोपदी को वचन देते हुए कहा कि एक दिन वह इस साड़ी के एक धागे का मोल जरुर चुकाएंगे। जिसके बाद श्री कृष्ण ने चीर हरण के वक्त द्रौपदी को दिया वचन निभाया और उनकी लाज बचाई थी। तभी से इस दिन का काफी ज्यादा महत्व माना जाने लगा।

महाभारत के दौरान सभी सेनिकों को बंधे गए थे रक्षा सूत्र 

इसके अलावा और भी कई कहानियां प्रचलित है। बताया जाता है कि महाभारत का युद्ध चल रहा था तब युधिष्ठिर कौरवों से युद्ध करने के लिए जा रहे थे। इस दौरान उन्हें सिर्फ यही बात की चिंता सता रही थी कि युद्ध को कैसे जीता जाए। इस बात का निवारण जब भगवान श्री कृष्ण से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि सभी सैनिकों के हाथ पर रक्षा सूत्र बांधने जाएं।

उनके कहने के बाद ठीक ऐसा ही किया गया और उन्हें महाभारत में जीत हासिल हुई। इसलिए भी रक्षा बंधन पर बांधे जाने वाले रक्षा सूत्र का काफी ज्यादा महत्व माना जाता है। इसको बांधने से पहले हमेशा मुहूर्त देखा जाता है ताकि भाई को किसी भी तरह का दुःख जीवन में ना उठाना पड़े।

 


About Author
Avatar

Ayushi Jain

मुझे यह कहने की ज़रूरत नहीं है कि अपने आसपास की चीज़ों, घटनाओं और लोगों के बारे में ताज़ा जानकारी रखना मनुष्य का सहज स्वभाव है। उसमें जिज्ञासा का भाव बहुत प्रबल होता है। यही जिज्ञासा समाचार और व्यापक अर्थ में पत्रकारिता का मूल तत्त्व है। मुझे गर्व है मैं एक पत्रकार हूं। मैं पत्रकारिता में 4 वर्षों से सक्रिय हूं। मुझे डिजिटल मीडिया से लेकर प्रिंट मीडिया तक का अनुभव है। मैं कॉपी राइटिंग, वेब कंटेंट राइटिंग, कंटेंट क्यूरेशन, और कॉपी टाइपिंग में कुशल हूं। मैं वास्तविक समय की खबरों को कवर करने और उन्हें प्रस्तुत करने में उत्कृष्ट। मैं दैनिक अपडेट, मनोरंजन और जीवनशैली से संबंधित विभिन्न विषयों पर लिखना जानती हूं। मैने माखनलाल चतुर्वेदी यूनिवर्सिटी से बीएससी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में ग्रेजुएशन किया है। वहीं पोस्ट ग्रेजुएशन एमए विज्ञापन और जनसंपर्क में किया है।

Other Latest News