जुलाई 2022 शुभ मुहूर्त: जाने विवाह, मुंडन और अन्य कार्यों के लिए कौन सा दिन है शुभ

यदि आप ही जुलाई के महीने में शादी, वाहन खरीदारी,  गृह प्रवेश और इत्यादि कार्यों की योजना बना रहे हैं तो इस खबर को जरूर पढ़ें।

धर्म, डेस्क रिपोर्ट। July 2022 Shubh Muhurta:- यदि आप ही जुलाई के महीने में शादी, वाहन खरीदारी,  गृह प्रवेश और इत्यादि कार्यों की योजना बना रहे हैं तो इस खबर को जरूर पढ़ें। यहां सभी जरूरी और शुभ कार्य के हिसाब से जुलाई में पड़ने वाले शुभ मुहूर्त का विवरण है। तो आइए जाने किन कार्यों के लिए जुलाई का कौन सा दिन शुभ है। हिन्दू मान्यताओं के अनुसार यदि शुभ कार्य सही मुहूर्त पर ना हुए तो अशुभ माना जाता है।

शादी के लिए ये दिन हैं शुभ

शादी के लिए जुलाई के बाद 3 महीने तक कोई भी शुभ मुहूर्त नहीं है। 10 जुलाई से देव शयनी एकादशी से 4 नवंबर देवउत्थनी एकादशी तक चतुर्मास होने के वजह से 4 महीने तक शादी जैसे कार्य संपन्न नहीं किए जाएंगे। हिंदू मान्यताओं के अनुसार यह महिना देवी और देवता के शययन का होता है, इसलिए इस महीने में विवाह करना शुभ नहीं माना जाता। 2 जुलाई 3, जुलाई 4, जुलाई 5, जुलाई 6, जुलाई 7, जुलाई 8, जुलाई 9 और 10 जुलाई को शादी का शुभ मुहूर्त है।

यह भी पढ़े… Xiaomi Book S कमाल के फीचर्स के साथ लॉन्च, सिर्फ इतनी है टैबलेट की कीमत, जाने

गृह प्रवेश के लिए शुभ दिन

जुलाई 2022 में यदि आप भी गृह प्रवेश की योजना बना रहे है,  तो बता दे कि 6 तारीख को उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र गिरने वाला है, उसके बाद उतरा सार गृह प्रवेश के लिए दो जरूरी धार्मिक दिनों को देगा। 13 जुलाई बुधवार और 14 जुलाई तक गृह प्रवेश का शुभ मुहूर्त है। इन दिनों में गृह प्रवेश का आयोजन कर सकते हैं।

बाइक और कार के लिए यह दिन है शुभ

आप जुलाई में बाइक और कार जैसे वाहन खरीदने की योजना बना रहे हैं। तो आपको बता दें कि इस महीने में 1 से 25 जुलाई तक वाहन खरीदने का शुभ मुहूर्त है। जिसमें से 1 जुलाई, 6 जुलाई, 7 जुलाई, 8 जुलाई, 10 जुलाई, 15 जुलाई, 20 जुलाई, 24 जुलाई और 25 जुलाई को वाहन की खरीदारी कर सकते हैं।

मुंडन की बना रहे हैं योजना

सही उम्र पर अपने बच्चों का मुंडन करवाना हिंदू धर्म में बहुत शुभ माना जाता है। यदि आप भी जुलाई में मुंडन की प्लानिंग कर रहे हैं तो आपको बता दें कि इस महीने की 6 तारीख, 8 तारीख और 9 तारीख इन कार्यों के लिए शुभ है।

Disclaimer: इस खबर को उद्देश्य भ्रम फैलाना नहीं है, यह केवल शिक्षित करने के लिए है। कोई भी कदम विद्वानों की सलाह के बिना ना उठाएं।