भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। आज से शारदीय नवरात्रि प्रारंभ हो गई है। हर साल के उत्साह से कुछ अलग इस बार कोरोना संक्रमण के कारण मंदिर एवं देवी पंडालों में भी भक्तों को गाइडलाइन के तहत ही पूजा-अर्चना और दर्शन की छूट मिलेगी। कोरोना गाइडलाइन का पालने कराने की जिम्मेदारी संबंधित मंदिर प्रबंधन या पंडाल समिति की होगी।

आज प्रथम दिन मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है। आज से प्रारंभ नवरात्रि 25 अक्टूबर तक चलेगी। इस बार 9 दिनों में ही 10 दिन का पर्व पूर्ण हो जाएगा। 24 अक्टूबर तक सुबह 6 बजकर 58 मिनिट तक अष्टमी रहेगी और फिर नवमी लग जाएगी। मतलब इस बार अष्टमी नवमी का पूजन एक ही दिन होगा।

आज होगी मां शैलपुत्री की पूजा

या देवी सर्वभूतेषु शैलपुत्री रूपेण संस्थिता।
या देवी सर्वभूतेषु शैलपुत्री रूपेण संस्थिता।

घट स्थापना का मुहूर्त ( शनिवार) 
शुभ समय – सुबह  6:27 से 10:13 तक ( विद्यार्थियों के लिए अतिशुभ)
अभिजीत मुहूर्त – दोपहर 11:44 से 12:29 तक (  सर्वजन)
स्थिर लग्न ( वृश्चिक)- प्रात: 8.45 से 11 बजे तक ( शुभ चौघड़िया, व्यापारियों के लिए श्रेष्ठ)

आज प्रथम दिन मां शैलपुत्री की पूजा में सभी नदियों, तीर्थों और दिशाओं का आह्वान किया जाता है। माना जाता है कि मां शैलपुत्री को सफेद रंग की वस्तुएं प्रिय है इसलिए पहले दिन सफेद मिष्ठान्न का भोग लगाया जाता है तथा सफेद फूल चढ़ाए जाते हैं। नवरात्र के प्रारंभ के साथ ही इस बार भक्त मां की आराधना में सुख शांति के साथ कोरोना से मुक्ति की कामना भी करेंगे।