प्राचीन शीतला माता मंदिर में की जाएगी 21 को काली माता की प्राण-प्रतिष्ठा

नवरात्रि के मौके पर सीहोर के हरदौल लाला और शीतला माता मंदिर में काली माता की प्राण-प्रतिष्ठा 21 अक्टूबर को की जाएगी।

pranpratishtha of goddess kali sehore

सीहोर, अनुराग शर्मा। शहर के इंग्लिशपुरा स्थित प्राचीन हरदौल लाला और शीतला माता मंदिर में इस साल भी नवरात्रि के अवसर पर पूजा अर्चना का क्रम जारी है। इसके अलावा यहां पर इस साल दक्षिणेश्वरी काली माता और शनि महाराज की भव्य प्रतीमा की स्थापना आगामी 21 अक्टूबर बुधवार को पूर्ण-विधि-विधान से शासन की गाइड लाइन पालन करते हुए प्राण-प्रतिष्ठा का आयोजन किया जाएगा। उक्त कार्यक्रम का आयोजन पंडित अखिलेश रजोरिया आदि के मार्गदर्शन में किया जा रहा है।

इस संबंध में जानकारी देते हुए पंडित कपिल रजोरिया ने बताया कि इंग्लिशपुरा स्थित प्राचीन हरदौल लाला और शीतला माता मंदिर 17 वीं शताब्दी से यहां पर हजारों श्रद्धालुओं की आस्था का प्रतीक है। यहां पर माता शीतला देवी सहित अन्य देवियों के अलावा मंदिर परिसर में भगवान कृष्ण आदि की मूर्तिया स्थापित है।

नव रात्रि को यहां पर माता काली और शनि महाराज की प्राण-प्रतिष्ठा को लेकर पांच दिवसीय आयोजन किया जा रहा है। इस मौके पर हवन के तीसरे दिवस समाजसेवी राजेश भूरा यादव, प्रियांशु दीक्षित सहित अन्य लोगों ने मंदिर में हवन आदि की आहुतियां दी। उन्होंने बताया कि मंगलवार को मंदिर परिसर में हवन के दौरान गायत्री और देवी मंत्रों से मां की विशेष आराधना की जाएगी।

पूरे नौ दिन होती है माता की सेवा

पंडित कपिल रजोदिया ने बताया कि शहर के इंग्लिशपुरा स्थित प्राचीन हरदौल लाला और शीतला माता मंदिर में हर साल नवरात्रि का महापर्व आस्था और उत्साह के साथ मनाया जाता है, लेकिन इस वर्ष कोरोना संक्रमण काल के कारण सादगी के साथ माता की अर्चना की जा रही है, वहीं सालों से निर्धारित दक्षिणेश्वरी काली माता जी और शनि महाराज की मूर्ति के प्राण-प्रतिष्ठा के अनुष्ठान को भी समिति रूप से किया जा रहा है। यहां पर प्रतिदिन आधा दर्जन से अधिक जोड़ों को हवन में आमंत्रित किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here