सावन का पहला सोमवार नजदीक, भगवान शिव को लगाए उनके पसंदीदा मीठे पकवानों का भोग, जानें

हालांकि भगवान शिव पर जल, दूध, बेलपत्र, गुड़हल, धतूरा को चढ़ाना बहुत शुभ होता है। लेकिन इसके अलावा भगवान शिव को प्रसन्न करने का तरीका है उनका पसंदीदा भोग लगाना।

धर्म, डेस्क रिपोर्ट। हिन्दू धर्म में सावन (Sawan 2022) मास का बहुत महत्व होता है। 14 जुलाई से सावन के पावन महीने की शुरुआत हो चुकी है और इसका समापन 12 अगस्त को होगा। इसी बीच सावन का पहला सोमवार 18 जुलाई 2022 को पड़ रहा है। यह दिन बहुत खास होता है। भक्तगण अपने आराध्य की आराधना करने के लिए मंदिरों के आगे लंबी लाइन तक लगा लेते है। भगवान शिव केवल बेलपत्र और जल से खुश हो जाते हैं। लेकिन भक्त अनेक प्रकार के भोग उनको लगाते हैं। बहुत कम लोगों को पता होता है की भगवान शिव का पसंदीदा भोग क्या है?

यह भी पढ़े… शिल्पा शेट्टी के नए Vanity वैन की वीडियो हो रही है वायरल, इन्साइड को देख हैरान हुए लोग, कह डाली ये बात

यदि आपको भी इस बात की जानकारी नहीं है तो यह खबर आपके लिए काम की हो सकती है। हालांकि भगवान शिव पर जल, दूध, बेलपत्र, गुड़हल, धतूरा को चढ़ाना बहुत शुभ होता है। लेकिन इसके अलावा भगवान शिव को प्रसन्न करने का तरीका है उनका पसंदीदा भोग चढ़ाना। तो आइए जाने भोलेनाथ के पसंदीदा भोग के बारे में..

मालपुआ

मालपुआ भगवान शिव का पसंदीदा पकवान है, इसका वर्णन आपको धार्मिक ग्रंथों में भी किया गया है। यदि आप भी इस साल भोलेनाथ को प्रसन्न करना चाहते हैं तो मालपुआ का भोग लगा सकते हैं। इसके लिए आपको चीनी, मैदा, ड्राइ फ्रूट्स, घी, केला और इत्यादि समाग्री की जरूरत होगी। आप चाहे तो गुलाब जामुन रेडी मिक्स से भी मालपुआ बना सकते हैं।

लस्सी

भोलेनाथ को दही बहुत प्रिय है और बहुत कोई इसे भगवान शिव पर अर्पित भी करते हैं। लेकिन इसमें चीनी, दूध और ड्राइ फ्रूट्स डाल कर महादेव का पसंदीदा भोग लस्सी बना सकते हैं और इसका भोग पूजा के दौरान भोलेनाथ को लगा सकते हैं।

हलवा

हलवा भी भगवान शिव को बहुत पसंद है। कई प्रकार का हलवा आप भगवान शिव को अर्पित कर सकते हैं। यदि आप फलहारी हलवा का भोग का भोग लगाना चाहते हैं तो सीघाड़ा, आलू, गाजर और सेब का हलवा बेस्ट होगा।

सेवई

सेवई भी भगवान शिव को बहुत पसंद है। यदि आप कुछ मीठा भगवान शिव को अर्पित करना चाहते हैं तो सेवई भी एक अच्छा ऑप्शन है। भोग बनाते समय सफाई और नियमों का ध्यान जरूर रखें।

Disclaimer: इस खबर का उद्देश्य केवल शिक्षित करना है। यह खबर धारणाओं और मान्यताओं पर आधारित है, हम इसका दावा नहीं करते है।