इस साल रामनवमी पर बन रहे हैं 5 दुर्लभ संयोग, खुल जाएगा बंद किस्मत का ताला, करें ये काम

Ram Navami 2023: हिन्दू पंचांग के अनुसार हर साल चैत्र मास के शुल्क पक्ष की नवमी तिथि पर रामनवमी का त्योहार मनाया जाता है। इस साल यह पूर्व 30 मार्च को पड़ रहा है। इस दिन भगवान श्रीराम का जन्म दिन मनाया जाता है। देश के कई हिस्सों में गाजे-बाजे के साथ झाकियाँ निकाली जाती है। साथ ही विधि-विधान के साथ उनकी पूजा की जाती है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस साल रामनवमी पर पाँच दुर्लभ संयोग बन रहे हैं। इस दिन पूजा करना बहुत ही शुभ होगा। सुख-समृद्धि में वृद्धि होगी। और धन लाभ होगा।

शुभ मुहूर्त और दुर्लभ संयोग

सुबह 11: 17 बजे से लेकर दोपहर 01:46 बजे तक पूजा का शुभ मुहूर्त है। वहीं दोपहर 12:01 बजे से लेकर दोपहर 12:51 बजे तक अभिजीत मुहूर्त रहेगा। इस दिन 5 शुभ और दुर्लभ योग बन रहे हैं। जिसमें सवार्थ सिद्धि, पुष्प योग, रवि योग, अमृत सिद्धि योग और बृहस्पति वार का योग शामिल हैं।

इन उपायों से होगा लाभ

  • इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करना बहुत ही शुभ माना जाता है। सरयू में नदी में स्नानं करने से बहुत लाभ होता है।
  • रामनवमी के दिन माता सिद्धिदात्री की पूजा जरूर करें।
  • इस दिन राम रक्षा स्त्रोत, बजरंग बाण और रामायण का पाठ करने से श्रीराम की कृपा बरसती है।
  • इस दिन किसी जानवर की सेवा करने से व्रत रखने वालों को शुभ फल की प्राप्ति होती है।
  • पूजा के दौरान भगवान श्रीराम का केसर युक्त दूध से अभिषेक करें।

(Disclaimer: इस लेख का उद्देश केवल जानकारी साझा करना है, जो मान्यताओं पर आधारित है। MP Breaking न्यूज इन बातों की पुष्टि नहीं करता। )

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News