Vastu tips : घर की उत्तर दिशा में छिपा होता है सुख समृद्धि का राज

यदि आप अपने घर में सुख समृद्धि के साथ धन सम्पदा में वृद्धि चाहते हैं तो करें वास्तु शास्त्र के अनुसार यह उपाय

धर्म, डेस्क रिपोर्ट। वास्तु शास्त्र कहत है, कि घर की सभी दिशाओं का अपने आप में एक विशेष महत्व रहता है, जिसके नियमों के पालन से आप अपने घर में सुख और शांति ले आते हैं, लेकिन यदि आप अपने घर में इस सकारात्मक-ऊर्जा का वातावरण और प्रवाह हमेशा के लिए चाहते हैं और चाहते हैं कि आपके घर की धन-सम्पदा में दिन रात वृद्धि होती रहे, तब उत्तर दिशा पर विशेष ध्यान देना चाहिए क्योंकि वास्तु शास्त्र के अनुसार उत्तर दिशा को धन-सम्पदा की दिशा कहा जाता है।

इस दिशा में साफ सफाई रखकर, आप यहां से सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाते हैं, जिससे आपकी आय के स्रोत में भी वृद्धि होती हैं।

यह भी पढ़ें – मोर पंख का ये उपाय आपके जीवन से करेगा शनि दोष को खत्म, वास्तु दोष से भी मिलेगी मुक्ति, जाने

इसके लिए कुछ विशेष बातों का ध्यान रखना आवश्यक है –

  • घर की उत्तरी भाग को हमेशा स्वच्छ रखें। यहाँ गंदगी को बिल्कुल जमा नहीं होने देवें।
  • उत्तरी दीवार पर हिंसक पशु-पक्षी या युद्ध संबंधित चित्र नहीं होने चाहिए।
  • उत्तर दिशा में पीपल का पेड़, कंटीले पौधे, , बरगद का पेड़ या अधिक बड़े आकार के वृक्ष नहीं लगावें।
  • बिजली के उपकरण, भारी मशीनरी या आग से संबंधित वस्तुएं या यंत्र उत्तर दिशा में नहीं होने चाहिए।

यह भी पढ़ें – एक खुशहाल और आदर्श घर के लिए वास्तु शास्त्र सुझाव

उत्तर दिशा में यह होना चाहिए –

  • वास्तु शास्त्र के अनुसार वैसे तो उत्तर दिशा को खुला ही रखना अच्छा माना गया है। लेकिन यदि वहां कोई निर्माण हो चुका है, तब वहां – पूजा घर, पढ़ाई कक्ष या लाइब्रेरी होना चाहिए।
  • पौधों की बात करें तो उत्तर दिशा में तुलसी, मनी प्लांट या क्रासुला का पौधा लगाने से संपत्ति और समृद्धि बढ़ती है।
  • उत्तर दिशा में बहते हुए पानी के सजावटी यंत्र जैसे फव्वारा, कृत्रिम झरना आदि बनाया जा सकता है।
  • घर के उत्तर दिशा में बने हुए कमरे की उत्तरी दीवार पर लक्ष्मी-कुबेर की तस्वीर या मूर्ति लगाने से धन-संपत्ति में वृद्धि होती है।
  • उत्तरी दीवार सकारात्मकता की दीवार कही जाती है इसलिए यहाँ सभी सकारात्मक चीजों के उपयोग से परिवार में प्रेम बना रहता है।