कोहली के बचाव में आए कोच राहुल द्रविड़, कहा- शतक की सफलता की निशानी नही

कोहली ने आखिरी शतक 2019 में लगाया था।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। पिछले काफी समय से खराब फॉर्म का सामना कर रहे भारतीय टीम के पूर्व बल्लेबाज विराट कोहली का यहां इंग्लैंड में मुख्य कोच राहुल द्रविड़ ने खुलकर उनका समर्थन किया है, जहां उन्होंने कहा कि वह बहुत मेहनती खिलाड़ी और शतक लगाना ही सफलता नहीं है।

निर्णायक मैच से पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कोहली के आलोचकों को द्रविड ने करारा जवाब दिया। उन्होंने कहा, “मैं आपकी उस बात से सहमत नहीं हूं कि वह 30 की उम्र के पार गलत साइड में चला गया है। मैंने अब तक जितने लोग देखे, उनमें सबसे मेहनती व्यक्ति वही है। जिस तरह से वह प्रैक्टिस मैच में खेला था, वह हर बॉक्स (पैमाने) पर राइट का टिक लगा रहा था।”

उन्होंने आगे कहा, “हर खिलाड़ी इस तरह के दौर से गुजरता है। विराट कोहली भी इससे गुजर रहा है। यह समय तीन के आंकड़ों (शतक) पर फोकस करने का नहीं है। लोग शतक को ही सफलता के तौर पर देखते हैं, लेकिन हम जीत में भागीदारी चाहते हैं। विराट कोहली ड्रेसिंग रूम में होता है, तो कई लोगों को प्रेरित करता है।”

ये भी पढ़े … एकनाथ शिंदे को डिप्टी सीएम पद, बागी विधायकों को भी मंत्रिमंडल में जगह, देखे संभावित कैबिनेट लिस्ट

आपको बता दे, पिछले साल भारतीय टीम के खेमे में किरोना विस्फोट के चलते पांच मैचों की टेस्ट सीरीज का अंतिम एवं निर्णायक मुकाबला स्थगित कर दिया गया था, जो अब 1 जुलाई से एजबेस्टन के मैदान पर खेला जाएगा। सीरीज में पिछली साल किंग कोहली की कप्तानी में भारत ने 2-1 की अजेय बढ़त बना ली थी, अगर टीम ये मुकाबला जीतने या ड्रॉ कराने में सफल होती है तो वह 15 साल बाद इंग्लैंड की धरती पर सीरीज जीतने में कामयाब हो जाएगी।

इससे पहले 2007 में द्रविड की कप्तानी में भारत ने इतिहास रचते हुए इंग्लैंड की धरती पर पहली टेस्ट सीरीज जीती थी और अब इस सीरीज के लिए द्रविड भारतीय टीम के मुख्य कोच की भूमिका में है।

हालांकि, निर्णायक मुकाबले से पहले भारतीय टीम को बड़ा झटका लग चुका है, जहां कोरोना के चलते कप्तान रोहित शर्मा इस मैच का हिस्सा नहीं होंगे। कप्तान की जिम्मेदारी इस मैच के लिए तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को सौंपी गई है।