41 साल बाद भारत पहुंचा ओलंपिक हॉकी के सेमी फाइनल में।

आज का दिन भारतीय हॉकी टीम (Indian Hockey Team) और हॉकी फैंस (Hockey Fans) के लिए बहुत बड़ा दिन है जिसके बाद गोल्ड मैडल (Gold Medal) की चाह हर हिंदुस्तानी के दिल में जाग गयी है।

आज भारतीय हॉकी के फैंस (Indian Hockey Fans) के लिए टोक्यो ओलंपिक से दिल खुश करने वाली खबर आई है। भारतीय पुरुष हॉकी टीम (Indian Hockey Team) ने ब्रिटेन को क्वार्टर फाइनल (Quarterfinals) में 3–1 से शिकस्त देकर ओलंपिक 2020 के सेमीफाइनल (olympics 2020 Semifinals) में अपना स्थान पक्का कर लिया है।

41 साल बाद भारत पहुंचा ओलंपिक हॉकी के सेमी फाइनल में।

MP School: RTE अंतर्गत स्कूल चॉइस 4 अगस्त से, 14 को खुलेगी दूसरी लॉटरी

सबसे हैरान करने की बात यह भी है कि एक समय हॉकी खेल पर राज करने वाली भारतीय टीम ने आज पूरे 41 साल (After 41 years) बाद ओलंपिक के सेमीफाइनल में अपना स्थान बनाया है। इससे पहले 1980 के मास्को ओलंपिक (1980 Moscow Olympics) में भारतीय टीम ने सेमीफाइनल गेम खेला था।

आपको बता दें यह पहली बार नहीं है जब भारतीय टीम ने ब्रिटेन को शिकस्त दी है, इससे पहले 1948 लंदन ओलंपिक (London Olympics) फाइनल, 1952 के हेलिंस्की (Helinski) सेमीफाइनल में और 1960 के रोम (Rome) के सेमीफाइनल में भारतीय हॉकी टीम ब्रिटेन को हरा चुकी है। और आज 2020 के क्वार्टर फाइनल में इतिहास को दोहराता हुए टीम ने फिर यह कारनामा कर दिखाया है।

राजकुंद्रा पोर्नोग्राफी मामला: पोर्न स्ट्रीमिंग कंटेंट का आरोप, पुलिस को मिली अश्लील फिल्में

भारतीय टीम की टोक्यो 2020 ओलंपिक्स में शुरुआत ठीक रही, टीम ने न्यूजीलैंड को हराकर अपने सफर का आगाज़ किया। ऑस्ट्रेलिया के हाथों हुई बुरी हार के बाद लग रहा था मानो हॉकी टीम का सफर जल्द ही ओलंपिक्स में खत्म हो जाएगा, पर ऐसा नहीं हुआ। भारतीय टीम ने लगातार स्पेन, अर्जेटिना, और जापान को हराकर अपने सफर को कायम रखा और क्वार्टरफाइनल में अपनी जगह बनाई। अब क्वार्टरफाइनल में ब्रिटेन को हराकर टीम ने गोल्ड मेडल के अधूरे सपने को कहीं न कहीं एक बार जिंदा कर दिया है।

जीत के इरादे से उतरी भारतीय टीम ने क्वार्टरफाइनल के मैच में शुरू से ही मजबूत पकड़ बनाए रखी। मैच के शुरू होते ही दिलप्रीत सिंह (Dilpreet Singh) ने बड़ी ही चतुराई से टीम के लिए पहला गोल दागा। इसके बाद मैच के दूसरे क्वार्टर में गुजरंत सिंह (Gujrant Singh) ने शानदार गोल कर टीम को 2–0 से बढ़त दिलाई। भारतीय टीम की 1st हाफ की बढ़त को देख ब्रिटेन टीम मानो मैच को हाथों से निकलता देख पूरी तरह निराश हो चुकी थी। ब्रिटेन की तरफ से तीसरे क्वार्टर में सैमुएल वार्ड (Samual Ward) ने पेनल्टी कॉर्नर लेते हुए गोल दागा। मैच ने चौथे क्वार्टर में हार्दिक सिंह (Hardik Singh) ने गोल दाग कर न केवल टीम को 3–0 की बढ़त दिलाई बल्कि सेमीफाइनल की राह पर मानो रेड कार्पेट (Red Carpet) बिछा दिया।

‘एक जिस्‍म दो जान’ सोहणा-मोहणा ने किया जेई पद के लिए अप्‍लाई, फंसा पेंच कैसे दे विकलांगता प्रमाणपत्र

ओलंपिक्स से लगातार जाने माने खिलाड़ियों के बाहर होने से निराश फैंस में मानों फिर से गोल्ड मेडल की चाहत जाग उठी है। अपनी खुशी का इजहार करते हुए करोड़ों फैंस ने ट्विटर के माध्यम से कप्तान मनप्रीत सिंह (Captain Manpreet singh) को ढेरों शुभकामनाए दीं और गोल्ड जीतने के लिए हौसला अफजाई भी की। आपको बात दें सेमीफइनल का मुक़ाबला मंगलवार को भारत और बेल्जियम के मध्य खेला जाएगा।