crypto currency: क्रिप्टो करेंसी से पेमेंट कर सकेंगे टेलीग्राम यूजर्स, ऐसा है नया फीचर

क्रिप्टो करेंसी से पेमेंट कर‌ सकेंगे यूजर्स। crypto currency का नया आप्शन यूजर्स को सहूलियत देने के लिए।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। क्या आप टेलीग्राम ऐप यूज करते हैं? ये कुछ कुछ वॉट्सएप के जैसा ही ऐप है जिसके जरिए इंस्टेंट मैसेजिंग, वीडियो डाउलोडिंग और बहुत से काम किए जा सकते हैं। टेलीग्राम ऐप यूज करने वालों को बहुत जल्द खुशखबरी मिलने वाली है। यूजर अब क्रिप्टोकरेंसी crypto currency में भी पेमेंट कर सकेंगे। टेलीग्राम ओपन नेटवर्क कम्युनिटी ने ये जानकारी साझा की है।

यह भी देखें- Google photos: फोन में रखे फोटो को छुपाने में मददगार है गूगल फोटोज का नया फीचर

ब्लॉग पोस्ट में कम्यूनिटी ने जानकारी दी है कि इस ऐप को यूज करने वाले क्रिप्टोकरेंसी में अपने सब्सक्रिप्शन्स के लिए पे कर सकेंगे। सिर्फ इतना ही नहीं वो किसी तरह के डोनेशन करना चाहते हैं तो उसके लिए भी उन्हें क्रिप्टोकरेंसी की सुविधा उपलब्ध होगी। इस क्रिप्टोकरेंसी को नाम भी दिया जा चुका है। इसे टोनकॉइन कहा जाएगा। जितने चैनल एडमिन होंगे वो इसी करेंसी में अपनी इनकम जमा कर सकेंगे।

यह भी देखें- नए साल 2022 में बजेगा इन टॉप फ्लैगशिप स्मार्टफोन्स का डंका, जानिए क्या-क्या हैं खास फीचर्स

लाइव हिंदुस्तान के मुताबिक टेलीग्राम के सीईओ और को फाउंडर परेल ड्यूरोव ने इस बात की घोषणा भी कर दी है। उन्होंने साल 2020 में ही ये जानकारी दे दी थी कि कंपनी आधिकारिक तौर पर इस प्रोजेक्ट पर काम कर रही है। हालांकि अभी इस पर काम जारी है ये अभी अपने तकनीक और डेवलपमेंट फेज में है।

यह भी देखें- BCCI ने की घोषणा, ये खिलाड़ी लेंगे रोहित शर्मा की जगह, संभालेंगे उप-कप्तान का पद

ड्यूरोव का ये दावा भी है कि स्केलेबिलिटी और स्पीड के मामले में टीओएन ब्लॉकचेन स्पेस बाकी सभी चेनों से काफी आगे है। ब्लॉकचेन प्रोटोकोल ने भी अपने आधिकारिक टेलीग्राम हैंडल से घोषणा की है। हैंडल में लिखा गया है कि टीओएन कम्यूनिटी को इस बात की घोषणा करने में खुशी हो रही है कि टीओएन ब्लॉक चेन और डोनेट एक टेलीग्राम वेरिफाइड सर्विस और ऑफिशियल पार्टनर बन गई है।

इस बात से जुड़े हुए कुछ पुराने विवाद भी हैं। साल 2020 में कंपनी का यूनाइडेट स्टेट्स सिक्योरिटीज और एक्सचेंज कमीशन के बीच कुछ विवाद था। इन्हीं विवादों के बीच कंपनी ने इस प्रोजेक्ट को आधिकारिक रूप से शुरू करने की घोषणा की थी। उस समय भी कंपनी पर सिक्योरिटीज लॉ के पालन न करने का आरोप लगाया गया था। इसके बाद कंपनी ने स्पष्ट कर दिया कि प्रोजेक्ट तब से टीओएन से टोनकाइन में चली गई है। जो टेलीग्राम से अलग है।

इस मामले पर ड्यूरोव ने भी सोशल मीडिया पर पोस्ट किया और खुशी जाहिर कि नए डेवलपर्स उनके दृष्टिकोण को आगे बढ़ा रहे हैं। ड्यूरोव ने लिखा कि पिछले साल टेलीग्राम के टीओएन को अलविदा कहने के बाद उन्हें उम्मीद थी कि डेवलपर्स बाजार ब्लॉकचेन प्लेटफॉर्म के उनके नजरिए के साथ आगे बढ़ेंगे। ओपन टॉन प्रोजेक्ट के टोनकॉइन में रीब्रांड होने पर उन्हें गर्व भी है कि उनकी बनाई तकनीक अब भी आगे बढ़ रही है।