ताजमहल के पास गंदगी को लेकर प्रदर्शन कर रही लड़की को विदेशी बताने पर ट्रोल हुए सपा नेता

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। आगरा में यमुना नदी के किनारे मौजूद दुनिया के सात अजूबों में से एक ताज महल इतना खूबसूरत है कि सिर्फ देश से ही नहीं बल्कि विदेशी पर्यटक भी इसकी खूबसूरती का दीदार करने आते है। लेकिन प्यार की इस निशानी पर उस समय दाग लग जाता है, जब वह इसके आसपास गंदगी के ढेर देखते है।

इसी से निजात पाने के लिए मात्र 10 साल की एक जागरूक बच्ची ने पहल की और इसके खिलाफ प्रदर्शन किया, लेकिन इस दौरान उत्तर प्रदेश में बड़ा खेला हो गया।

दरअसल, आगरा में यमुना नदी की गंदगी और ताजमहल के किनारे लगे कूड़े के ढेर को लेकर प्रदर्शन कर रही 10 वर्षीय भारतीय चाइल्ड एक्टिविस्ट को समाजवादी पार्टी (सपा) नेता ने विदेशी बता दिया, जिसके जवाब में उसने खुद ट्वीट कर बताया कि वह एक गौरवान्वित भारतीय है। बस फिर क्या था सोशल मीडिया यूजर्स ने सपा नेता की क्लास लगा दी।

ये भी पढ़े … तीन साल की बच्ची से कुदरत ने सबकुछ छीना, भावुक कर देगी कहानी

सबसे पहले सपा के डिजिटल मीडिया कोआर्डिनेटर मनीष जगन अग्रवाल ने बुधवार को एक तस्वीर ट्वीट कर लिखा, “विदेशी पर्यटक भी भाजपा शासित योगी सरकार को आईना दिखाने को मजबूर हैं, भाजपा की सरकार में यमुना जी गंदगी से भरी पड़ी हैं,ताजमहल को खूबसूरती पर ये गंदगी एक बदनुमा दाग है। विदेशी पर्यटक द्वारा सरकार को आईना दिखाना बेहद शर्मनाक है ,भारत और यूपी की ये छवि भाजपा सरकार ने बनाई है”

इस ट्ववीट के जवाब में लिसिप्रिया कंगुजामो (Licypriya Kangujam) ने लिखा, ” हेलो सर, मैं एक गौरवान्वित भारतीय हूं, मैं विदेशी नहीं हूं।”

इसके बाद जब सपा नेता ट्रोल होने लगे तो उन्होंने अपनी इस गलती का ठीकरा न्यूज चैनलों पर फोड़ दिया। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, “इस तस्वीर को कल एक न्यूज चैनल ने दिखाया ,जिसमें भारत की इस बेटी को विदेशी बताया गया ,चैनल की गलत खबर की वजह से समझने में भूल हुई। भारत की इस बेटी के पर्यावरण बचाओ अभियान की सराहना है और हम सब भारत की इस बेटी के साथ हैं।”

ये भी पढ़े … कंपनी बदली तो कैसे भरे वित्त वर्ष 2021-22 में इनकम टैक्स रिटर्न?

मनीष के इस ट्वीट का जवाब देते हुए Licypriya Kangujam ने लिखा, “10 वर्ष की आयु तक मैंने अपने देश का प्रतिनिधित्व संयुक्त राष्ट्र में 8बार किया, मुझे विदेशी मत कहिए। नॉर्थ ईस्ट के लोगों के प्रति इस तरह के नस्लवादी रवैये को रोकें. यह किसी भी कीमत पर अस्वीकार्य है।”