सहारनपुर, डेस्क रिपोर्ट। कोरोना महामारी (Coronavirus) के चलते आज सभी देश लॉकडाउन  लगाने के लिए मजबूर हैं भारत भी इस लॉकडाउन या कहें कोरोना कर्फ्यू से अचूका नहीं है ,जिसके चलते न तो लोग घर से निकल पा रहे हैं नाही गाडियां चला पा रहे हैं नाही फैक्टरियों के काम चालू हो पा रहे हैं । एक ओर जहाँ कोरोना कर्फ्यू (Corona Curfew) लोगों के लिए समस्या का विषय बना हुआ है वहीँ दूसरी ओर प्रकृति के लिए यह फिर एक बार वरदान साबित हो रहा है।

हाल में ट्विटर पर सहारनपुर निवासी रमेश पांडे ने एक फोटो साझा कर लिखा है कि “Himalayas are visible again from Saharanpur. After rains, the sky is clear and AQI is around 85” अर्थात “हिमालय को एक बार फिर सहारनपुर से देखा जा सकता है ओर बारिश के बाद आसमान साफ़ है और वायु गुणवत्ता सूचकांक 85 है” । उन्होने इस इमेज का क्रेडिट डॉक्टर विवेक बनर्जी को दिया है।

प्रतिबंध की उड़ी धज्जियां, तमंचा लहराकर मनाई गई बर्थडे पार्टी, डाकू रामबाबू के नाम के लगे नारे

सहारनपुर निवासियों कि मानें तो पिछली साल अप्रैल में यह नज़ारा लगभग 30 साल बाद देखने को मिला था ,कोरोना कर्फ्यू कि वजह से हवा के प्रदूषण में आई कमी की वजह से लोगों को यह दीदार करने का मौका मिला।इतना ही नहीं कोरोना कर्फ्यू की वजह से न केवल वायु प्रदूषण बल्कि नदियों के प्रदूषण में भी कमी आई है ऐसा कहा जा रहा है।