छिंदवाड़ा : बंद पड़ी खदानों को फिर से शुरु करेगी सरकार

छिंदवाड़ा

मध्यप्रदेश के छिंदवाडा जिले में बंद पड़ी विष्णुपुरी और मोआरी खदानों का काम फिर से शुरु किय़ा जाएगा। इस संबंध में केन्द्रीय मंत्री  पीयूष गोयल ने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को आश्वासन दिया है। सरकार की कड़ी सुरक्षा को ध्यान मे रखते हुए तय मानकों को ध्यान में रखकर पुनः काम शुरू किया जायेगा। इससे कोयला खदानों के अस्थायी कर्मचारियों और उनसे जुड़े परिवारों को लाभ होगा। हालांकि इसके पीछे सरकार का उद्देश्य  कोयला पूर्ति भी करना है।चुंकी प्रदेश में बिजली का संकट गहराने लगा है और केन्द्र से भी कोई विशेष मदद नही मिली है।

बता दे कि छिंदवाड़ा की विष्णुपुरी और मोआरी खदानों को केन्द्र सरकार द्वारा बन्द करने का निर्णय लिया गया था। पेंच और कन्हान क्षेत्र में अब तक 4 खदानें बंद हो गई हैं। 31 मार्च को दो और खदानों को बंद करने की तैयारी थी। जिसके बाद से कर्मचारियों में विरोध पनपने लगा था और फिर से खदानों को शुरु करने की मांग उठने लगी थी।

दरअसल, बुधवार को मुख्यमंत्री शिवराज, केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल से मुलाकात करने दिल्ली पहुंचे थे, जहां उन्होंने चर्चा के दौरान कहा कि वर्ष 2015 में जमुनिया खदान का काम शुरु किया गया था, लेकिन काम ठीक से ना होने के कारण इसे रोक दिया गया । इसलिए इन्हें गति देने के आदेश फिर से दिए जाए, ताकी यहां काम फिर से शुरु किया जाए। मुख्यमंत्री ने धनकशा खदान, जिसका भूमि पूजन 2013 में हो चुका है, का कार्य शीघ्र प्रारंभ करने की भी मांग की।चौहान ने कहा कि कोयला खदानों से तीव्र गति से कार्य होने पर खदानों के अस्थायी कर्मचारी को बाहर स्थानांतरित नहीं किया जायेगा एवं खदानों से प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े परिवारों को रोजगार की कमी नहीं आयेगी। कोयला मंत्री ने इन दोनों खदानों में भी तीव्रगति से काम शुरू करवाए जाने का आश्वासन दिया।