Breaking News
जेल की हवा खाने वाली 'भांजियों' को नहीं मिलेगी ऊंचाई में छूट! | कैबिनेट बैठक, इन अहम प्रस्तावों को मिली मंजूरी | आईएएस दीपाली रस्तोगी का नया फरमान फिर चर्चाओं में.. | आईएएस दीपाली रस्तोगी का नया फरमान फिर चर्चाओं में.. | कांग्रेस के पोस्टर वॉर पर बोले पवैया- सूत न कपास, जुलाहों मैं लट्ठमलट्ठा | अगला CM कौन... 'सिंधिया' या 'कमलनाथ', पोस्टर वॉर से कांग्रेस में मचा घमासान | जूडा का अनोखा विरोध, MYH के सामने लगाई समानांतर ओपीडी | संगठन नहीं शिवराज के चेहरे पर ही चुनाव लड़ेगी भाजपा | अटकलों पर लगा विराम, किसी भी कीमत पर नही बिकेगा किशोर कुमार का पुश्तैनी घर | अंतर्राज्यीय चंदन तस्कर गिरोह का पर्दाफाश, वर्दी का रौब दिखाकर करते थे तस्करी |

माओवादी और जिहादियों के समागम की पहुंच दिल्ली तक, हमें इन्हें पहचानना होगा

ग्वालियर । भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ के पूर्व निदेशक आर एस एन  सिंह ने ग्वालियर में कहा कि आतंकवादी हो या माओवादी या फिर जिहादी इनका समागम अब दिल्ली तक पहुँच चुका है और अब इसमें चर्च भी शामिल हो गया है। उन्होंने कहा कि जे एन यू में भारत तेरे टुकड़े होंगे जैसे नारे सुनाई देना इसका सबसे बड़ा उदाहरण है। 

वी द इण्डिया के बैनर तले होटल शेल्टर में आयोजित सेमिनार को संबोधित करते हुए श्री सिंह ने कहा कि आतंकवादियों माओवादियों जिहादियों और चर्च का समागम खतरनाक होता जा रहा है इसमें और लोग जुड़ रहे है हमें ऐसे लोगों को पहचानना होगा। उन्होंने कहा कि कश्मीर में हो रही पत्थर बाजी में ऐसे ही लोगों का हाथ है। । ग्लोबल जिहाद और कश्मीरी आतंकवाद विषय पर आयोजित सेमिनार में मुख्य वक्ता के तौर पर शामिल रॉ के पूर्व निदेशक ने कहा कि अब दुनियाभर के इस्लामिक संगठन धीरे धीरे ISI में समाहित होते जा रहे हैं। ऐसे में भारत को चारों तरफ से खतरा है इस खतरे को सिर्फ सरकार ही नहीं  बल्कि सरकारें, समाज और नागरिक नजर अंदाज कर रहे हैं। हमें ऐसे लोगों को पहचानना होगा। उन्होंने कहा कि देश के 27 राज्यों में ये गठजोड़ सक्रिय हो चुका है। इनकी जड़ में फोरेन आइडियोलॉजी है लेकिन यदि हम अपनी जड़ से जुड़े रहेंगे तो इन्हें उखाड़ फेकेंगे। 

सेमिनार के विशिष्ट अतिथि लेफ्टिनेंट जनरल रिटायर्ड पीएस मेहता ने कहा कि समय समय पर सरकारों ने गलतियाँ की जिससे कश्मीर में आतंकवाद उद्योग बन गया। उन्होंने कहा कि हम पिछले 29 साल से आतंकवादियों को मारते आ रहे हैं लेकिन कश्मीर को लेकर सरकार की कोई स्पष्ट नीति नहीं है। 

प्रेस क्लब ऑफ इंडिया के पूर्व महा सचिव एवं वरिष्ठ पत्रकार पुष्पेन्द्र कुलश्रेष्ठ ने कहा कि भारत को पाकिस्तान से कहीं ज्यादा खतरा भारत में रह रहे पाक परस्त लोगों से है। उन्होंने कहा कि आश्चर्य इस बात का होता है कि उत्पत्ति से लेकर आजतक जिस धर्म का इतिहास रक्त रंजित रहा हो वो शांति प्रिय कैसे हो सकता है। उन्होंने कहा कि सरकारें मजबूर हो सकती हैं लेकिन नागरिक नहीं। हम नहीं कहते कि इस्लामिक आतंकवाद है लेकिन जब आतंकवादी मरता है तो उसे दफनाया क्यों जाता है।श्री कुलश्रेष्ठ ने कहा कि जब म्यांमार ऐ आये 10 हजार रोहिंग्या मुसलमानों को  जम्मू कश्मीर में बसाकर आधार कार्ड और अन्य पहचान पत्र दिए जा सकते हैं  तो दिल्ली सहित देश के अलग अलग हिस्सों में रह रहे कश्मीरी पंडितों को वहां की नागरिकता क्यों नहीं दी जा सकती। 

सेमिनार में मौजूद आध्यात्मिक गुरु पवन सिन्हा ने कहा कि पाकिस्तान भारत में सिर्फ टेरेरिज्म नहीं नार्को टेरेरिज्म और साइको टेरेरिज्म फैला रहा है। वो नार्को टेरेरिज्म के माध्यम से युवाओं को नशे की लत लगा रहा है तो साइको टेरेरिज्म के जरिये सोशल मीडिया के माध्यम से भ्रामक बातें फैलाकर दंगे फसाद फैला रहा है। उन्होंने कहा कि अब समाज जाति धर्म राजनीति के लिए आन्दोलन नहीं भारत के लिए आन्दोलन की जरुरत है। जो हमारी फ़ौज का मनोबल बढ़ाये और देश के दुश्मनों का खात्मा कर दे।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...