MP: टिकट कटते ही हर तरफ घमासान, कहीं इस्तीफ़ा, कहीं निर्दलीय लड़ने का ऐलान

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी ने प्रत्याशियों की पहली सूची जारी होने के बाद पार्टी में प्रदेश भर में विरोध के स्वर उपज रहे हैं। पार्टी ने रतलाम ग्रामीण से मौजूदा विधायक मथुरालाल डामर का टिकट काटकर दिलीप मकवाना को प्रत्याशी बनाया है। टिकट का ऐलान होने पर जब मकवाना आशीर्वाद लेने डामर के पास पहुंचे तो उन्होंने भरी भीड़ में कहा कि डेढ़ करोड़ में टिकट खरीदा है। इस घटनाक्रम से जुड़ा वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। पसंदीदा प्रत्याशियों को टिकट नहीं मिलने से संघ पृष्ठभूमि से जुड़े भाजपा नेता एवं पूर्व पदाधिकारियों द्वारा पार्टी से इस्तीफा देने, कांग्रेस में शामिल होने अथवा निर्दलीय चुनाव मैदान में उतरने का ऐलान किया है। भाजपा में सबसे ज्यादा बगावत नरसिंहपुर जिले में हुई है। यहां दो दिन पहले भाजपा छोड़कर कांग्रेस में शामिल होने वाले विधायक संजय शर्मा ने चार हजार से ज्यादा भाजपाईयों को कांग्रेस में शामिल कराया है। वहीं उज्जैन में घटिया विधानसभा सीट पर टिकट को लेकर भाजपाईयों ने केंद्रीय मंत्री थावरचंद्र गहलोत का पुतला फूंक दिया है। 


नरसिंहपुर: भाजपा को बड़ा झटका 

अभी तक नरसिंहपुर में सबसे ज्यादा नेता एवं कार्यकर्ताओं ने भाजपा छोड़ी हैं। शुक्रवार को भाजपा के नगर पंचायत अध्यक्ष, पार्षद, जनपद अध्यक्ष, सदस्य, जिला पंचायत सदस्य, आधा सैकड़ा से ज्यादा सरपंचों ने भाजपा छोड़ी है। नरसिंहपुर में भाजपा नेता खुलकर विरोध में उतर आए हैं। 


रीवा: संघ पृष्ठभूमि ने दिया इस्तीफा 

भाजपा के पूर्व प्रदेश कोषाध्यक्ष रामोराम गुप्ता ने भाजपा छोड़ दी है। वे संघ पृष्ठभूमि के नेता है। वहीं सिंगरौली में पूर्व मंत्री जगन्नाथ सिंह की बहू राधा सिंह ने पार्टी छोड़ दी है। वे चितरंगी विधानसभा सीट से टिकट की मांग कर  रही थीं। 


उज्जैन: घट्टिया सीट के लिए घटिया राजनीति

घट्टिया विधानसभा सीट के लिए घटिया राजनीति हो रही है। भाजपा ने पहली सूची में अशोक मालवीय को प्रत्याशी बनाया, लेकिन दिल्ली में पूर्व सांसद प्रेमचंद्र गुड्डू के भाजपा में शामिल होने के बाद मालवीय का टिकट निरस्त कर दिया। अब भाजपा घट्टिया से नया प्रत्याशी घोषित करेगी। संभवत: प्रेमचंद्र गुड्डू के बेटे अजीत बोरासी घट्टिया विधानसभा सीट से भाजपा के नए प्रत्याशी हो सकते हैं। इस घटनाक्रम के बाद उज्जैन में केेंद्रीय मंत्री थावरचंद्र गहलोत का पुतला फूंका गया है। 


सागर: उमा समर्थक निर्दलीय लड़ेंगे

नरियावली से प्रदीप लहारिया एवं सागर से विधायक शैलेन्द्र जैन के टिकट का खुलकर विरोध हो रहा था, लेकिन पार्टी ने फिर से शैलेन्द्र को प्रत्याशी बनाया है। जबकि यहां से मुकेश जैन ढाना टिकट की मांग कर रहे थे। पहली सूची आने के बाद ढाना ने निर्दलीय चुनाव लडऩे का ऐलान कर दिया है।


भोपाल: हुजुर से निर्दलीय मैदान में 

भोपाल में भाजपा ने 5 सीटों पर मौजूदा विधायकों को फिर से टिकट दिया है। यहां हुजूर विधानसभा सीट से दो भाजपा नेता श्यामसिंह मीणा निर्दलीय मैदान में उतर सकते हैं। हालांकि श्यामसिंह मीणा को भाजपा निष्कासित कर चुकी है। वहीं पूर्व विधायक जितेन्द्र डागा कांग्रेस के संपर्क में है। वे कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ सकते हैं। 


विदिशा: मीणा समर्थकों ने फेंकी कुर्सियां

मंत्री मीणा को टिकट देने के समर्थन में शमाशाबाद में कुर्सियों फेंकी गई। मीणा समर्थकों की मांग थी कि उन्हें टिकट दिया जाए। क्योंकि उनसे दबाव में चुनाव नहीं लडऩे का पत्र लिखवाया गया है। वहीं विदिशा में भाजपा प्रत्याशी मुकेश टंडन के विरोध में भी भाजपा नेताओं ने पार्टी से इस्तीफा देने का ऐलान किया है। दबी जुवान से विदिशा में भाजपाई टंडन का विरोध कर रहे हैं, लेकिन कोई खुलकर विरोध नहीं कर रहा है। 


खंडवा: भाजपा के घोषित प्रत्याशियों के विरोध में भाजपा नेताओं ने मुंडन कराया है। विरोध थमने का नाम नहीं ले रहा है। वरिष्ठ नेताओं के हस्तक्षेप के बाद भी कार्यकर्ता मानने को तैयार नहीं है। यह सांसद नंदकुमार सिंह चौहान का चुनाव क्षेत्र है। 


सीहोर: यहां भाजपा ने निर्दलीय विधायक सुदेश राय को प्रत्याशी बनाया है। यहां पूर्व विधायक रमेश सक्सेना की पत्नी ऊषा सक्सेना निर्दलीय चुनाव लड़ेंगी। साथ ही एक अन्य भी निर्दलीय चुनाव में मैदान में उतरेगा। 


कैलाश ने नंदकुमार को निपटाया

भाजपा के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष एवं सांसद नंदकुमार सिंह चौहान मांधाता सीट से टिकट की मांग कर रहे थे। पहली सूची में भाजपा ने नरेन्द्र सिंह तोमर को प्रत्याशी घोषित कर दिया है। जिससे नंदकुमार की उम्मीदों पर पानी फिर गया है। बताया गया कि नंदकुमार का टिकट कटवाने में राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय की भूमिका रही है। पहली सूची में नंदकुमार के समर्थकों को टिकट नहीं मिले हैं। 


शर्मा से बनाई कांग्रेसियों ने दूरी

नरसिंहपुर में एक ओर जहां संजय शर्मा ने भाजपाईयों को कांगे्रस में शामिल कराया है, वहीं कांग्रेसियों ने संजय शर्मा से दूरी बना ली है। कांग्रेस से टिकट के सभी दावेदार प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ को पत्र लिखकर चेतावनी दे चुके हैं कि संजय शर्मा को टिकट दिया तो वे फैसला लेने के लिए स्वतंत्र होंगे। संजय शर्मा के कांग्रेस में आने के बाद तेंदूखेड़ा से कांग्रेस के वरिष्ठ नेता विश्वनाथ सिंह पटेल उर्फ मुलायम भैया भाजपा में शामिल हो सकते हैं। बताया गया कि वे देर शाम भोपाल के लिए रवाना हो चुके हैं।