Breaking News
दागियों का कटेगा टिकट, साफ-सुथरी छवि के नेताओं को चुनाव में उतारेगी भाजपा | फ्लॉप रहा कांग्रेस का 'घर वापसी' अभियान, सिर्फ कार्यकर्ता लौटे, नेताओं ने बनाई दूरी | शिवराज कैबिनेट की बैठक ख़त्म, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर | सीएम चेहरे को लेकर सोशल मीडिया पर जंग, दिग्विजय भड़के | मुख्यमंत्री के काफिले पर पथराव, महिदपुर- नागदा के बीच की घटना, पुलिस वाहन के कांच फूटे | अब भोपाल में राहुल ने फिर मारी आंख, वीडियो वायरल | एमपी की 148 सीटों पर खतरा, बिगड़ सकता है बीजेपी का चुनावी गणित | LIVE: ऊपर से टपकने वाले को नहीं मिलेगा टिकट : राहुल गांधी | राहुल की सभा में उठी सिंधिया को सीएम कैंडिडेट घोषित करने की मांग | राहुल के भोपाल दौरे पर वीडियो वार..'कांग्रेस हल है या समस्या' |

चुनावी असर : पिता ने बेटी की शादी के कार्ड पर छपवाए शराबबंदी-दहेजबंदी के स्लोगन

मुरैना

मध्यप्रदेश के मुरैना जिले में एक परिवार द्वारा शादी में एक अनूठी पहल देखने को मिली है। यहां सहराना गांव के निवासी इन्द्र सिंह गुर्जर ने अपनी बेटी की शादी में दहेजबंदी और शराबबंदी का विरोध किया है। उन्होंने कार्ड पर शराबबंदी और दहेजबंदी को लेकर स्लोगन छपवाया है।वही शादी के कार्ड पर ये भी लिखा गया है कि शादी में शराब पीकर ना आये। हैरानी की बात तो ये है कि ये बदलाव सरकार द्वारा चलाए जा रहे अभियान या मुख्यमंत्री के भाषणों से नही बल्कि विख्यात संत हरिगिरि महाराज के द्वारा दिए गए उपदेशों से हुआ है।लोगों द्वारा इसे चुनावी माहौल से भी जोड़कर देखा जा रहा है। चुंकी बीते कई दिनों से सरकार शराबबंदी और दहेजबंदी पर जोर दिए हुए है। सीएम शिवराज भी हमेशा अपने भाषणों ेमं शराबबंदी की बात करते है।

दरअसल, बीते कई सालों से चंबल में संत के नाम से विख्यात हरिगिरि महाराज मृत्युभोज, शराबबंदी और दहेज प्रथा का विरोध करते आ रहे है। वे अपने शिष्यों से भी इन तीनों का पालन करने को कहते है। उनके निर्देशों का असर अब गुर्जर समाज पर भी पड़ने लगा है। महाराज की प्रेरणा के बाद समाज के लोग बिना दहेज के बिटिया की विदाई को तैयार हैं। जिसकी शुरूआत सहराना गांव में इन्द्र सिंह गुर्जर की बिटिया पूजा के विवाह से हो रही है। पूजा का विवाह कल यानी 20 जून को अतेंद्र सिंह गुर्जर से होने वाला है। इंद्र सिंह अपनी बिटिया के विवाह में कोई दहेज नहीं दे रहे हैं। इसका प्रमाण बिटिया की शादी के लिए छपवाया गया कार्ड है। इसके साथ ही उन्होंने शादी में लोगों को शराब ना पीकर आने की हिदायद भी दी है।कार्ड में नोट के रुप मे लिखा गया है कि कोई भी व्यक्ति शराब पीकर शादी समारोह में न आए। यह आदेश संत हरि गिरि महाराज का है।इतना ही नही शादी कार्ड में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ की अपील की गई है। कार्ड के एक हिस्से में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ और न दहेज लेंगे न दहेज देंगे की अपील की गई है।

ये लिखा है शादी के कार्ड पर "मृत्यु भोज और माला छूटी, खाना छूटा मेज पे। बाजे छूटे दारू छूटी, अब की चोट दहेज पे।।"

महाराज ने तय किया पूजा की शादी का खर्च

-पंडित की दक्षिणा - 1100 रुपए की

-थाली में रखना - 5100 रुपए

-लग्न के लिए- 1100 रुपए

-दरवाजा 1100 रुपए

-भात 5100 रुपए

-अंक माला 10 रुपए

-टीका 50 रुपए

-पान 1100 रुपए 

-5 बर्तन

-कूलर

-अलमारी

-पलंग

-बारातियों की संख्या-100 


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...