BJP MP की गाड़ी पर हमलावरों ने किया हमला, आई चोट, अस्पताल में भर्ती

ऐसी स्थिति में अनुमान लगाया जा रहा है कि क्षेत्र में कोरोना की खामियों को उजागर करने के बाद सांसद को डराने के लिए उन पर हमले करवाए गए हैं।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट कोरोना कर्फ्यू (corona curfew) के दौरान देश में जहां चप्पे-चप्पे पर पुलिस अधिकारियों की तैनाती की गई है। ऐसी स्थिति में आमजन सुरक्षित नहीं है। आम जनता की बात तो छोड़ ही दी जाए। दरअसल नेता राजनेताओं पर भी बदमाशों द्वारा हमला जारी है। इस बीच एक नया मामला सामने आया है। जहां BJP सांसद (BJP MP) की गाड़ी पर देर रात हमलावरों ने हमला कर दिया। यह हमला उस वक्त हुआ जब बीजेपी सांसद निरीक्षण के दौरे पर थी। हमले के दौरान बीजेपी सांसद को चोट भी आई है। जिसके बाद उन्हें फौरन अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

दरअसल मामला राजस्थान (rajasthan) के भरतपुर जिले का है। जहां से BJP सांसद रंजीता कोली (ranjita koli) गुरुवार देर रात सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का निरीक्षण करने जा रहे थी। इस बीच बदमाशों ने उनकी गाड़ी पर हमला कर दिया। गांव के पास बदमाशों के गाड़ी पर हमला करने से सांसद की गाड़ी का शीशा टूट गया। इसके साथ उन्हें चोट भी आई। जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हालांकि अस्पताल से पट्टी के बाद सांसद सर्किट हाउस पहुँच गई है।

Read More: सीएम शिवराज सिंह चौहान का आज सीहोर और रायसेन दौरा, लेंगे समीक्षा बैठक

इस मामले में सांसद टीम का कहना है कि हमला बहुत खतरनाक था। हमले में सांसद बेहोश हो गई थी। घटना के बाद फोन पर पुलिस से संपर्क किया गया लेकिन 45 मिनट बाद भी पुलिस घटनास्थल पर नहीं पहुंची थी। वहीं सांसद टीम ने डीएम पर फोन ना उठाने का आरोप लगाया गया है। बीजेपी सांसद हुए हमले के बाद लोकसभा सांसद राज्यवर्धन सिंह राठौर ने ट्वीट कर हमले की घटना पर सवाल उठाए। इसके साथ ही राज्य सरकार को कटघरे में खड़ा किया है। बीजेपी सांसद ने कहा कि एक महिला सांसद राजस्थान कांग्रेस की खामियों को उजागर करती है। फिर उन पर जानलेवा हमला होता है। डीएम फोन नहीं उठाते और पुलिस को आने में इतना वक्त लग जाता है। राजस्थान सरकार बेहद संवेदनशून्य हो गई है।

ज्ञात हो कि सांसद कोहली ने 3 दिन पहले ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखकर अपने क्षेत्र भरतपुर में कोरोना की RT-PCR टेस्ट कम होने की बात कही थी। इस दौरान उन्हें राज्य सरकार की व्यवस्था और विधि पर भी सवाल खड़े किए थे। अब ऐसी स्थिति में अनुमान लगाया जा रहा है कि भरतपुर क्षेत्र में कोरोना की खामियों को उजागर करने के बाद सांसद को डराने के लिए उन पर हमले करवाए गए हैं।