प्रतिबंध की उड़ी धज्जियां, तमंचा लहराकर मनाई गई बर्थडे पार्टी, डाकू रामबाबू के नाम के लगे नारे

भिण्ड, गणेश भारद्वाज।  कोरोना संक्रमण अब शहरों की अपेक्षा गांवों में ज्यादा दिखाई दे रहा है। जहां एक और गांव में लोगों के मरने की लगातार सूचनाएं आ रही है। वहीं दूसरी ओर गांव के लगभग हर घर में एकाद मरीज बुखार या कोरोना संक्रमण की चपेट में आने से बीमार है। सरकार के निर्देश पर जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग पूरे दमखम के साथ इस संक्रमण की चेन को तोड़ने में जुटा हुआ है। दूसरी तरफ गांवों से ऐसी तस्वीरें सामने आ रही है जो कि न केवल संक्रमण को बढ़ावा दे रही हैं बल्कि कानून को ठेंगा दिखा रही है।

जिले के गोरमी थाना क्षेत्र के कचनाव पंचायत के सुखलाल का पुरा गांव राजेश बघेल की बर्थडे पार्टी के नाम पर ऐसा आयोजन कर डाला। जोकि न केवल कोरोना संक्रमण को बढ़ावा देता हुआ दिखाई दिया बल्कि कानून को भी ठेंगा दिखाने के लिए आयोजित किया गया था। इस बर्थडे पार्टी में लहरायी दर्जनों बंदूक़ें व तमंचे एक गाने की शूटिंग के नाम पर लहराते हुए दिखाई दिए। इसे देखने सैकड़ों ग्रामीणों की भीड़ भी एकत्रित हुई। इस विकराल संक्रमण काल मे।

Read More: सिंधिया ने क्यों डिलीट किया राजीव गांधी पर अपना ट्वीट, कांग्रेसी नेता ने उठाएं सवाल

इस भीड़ में सोशल डिस्टेंसिंग थी और न ही किसी एक व्यक्ति या बन्दूक तमंचाधारी युवक के मुहँ पर मास्क ही था। यही नहीं वीडियो देख लोग भौंचक्के तब रह गए। जब भीड़ ने शिवपुरी जिले में एक दशक पूर्व एनकाउंटर में मारे गए कुख्यात डाकू रामबाबू गड़रिया के नाम के लगे नारे भी लगाये। इस मामले की जानकारी देर सबेर आयोजन होने के बाद जब गोरमी पुलिस को लगी तो आयोजक और डांस पार्टी के संचालक पर मामला दर्ज हुआ।

बड़ी विडंबना है कि एक और सरकारें कोरोना से लड़ाई लड़ने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा रही है। वहीं दूसरी ओर ग्रामीण क्षेत्रों में ऐसी तस्वीर सामने आ रही है। जो कि इस विकराल महामारी के संकट काल में न केवल परेशान और विचलित करती हैं बल्कि प्रशासन और सरकार की तमाम कोशिशों पर पलीता लगाती भी लगा रही हैं। ऐसे आयोजकों पर केवल धारा 188 या सामान्य धाराओं से कार्रवाई करने से काम नहीं चलने वाला।

Read More: कमलनाथ का सनसनीखेज दावा- दूसरी लहर में कोरोना से हुई मौतों के बताए आंकड़े

इन पर जब तक कठोरतम कार्रवाई नहीं होगी। तब तक ऐसे लापरवाह लोग मानने वाले नहीं है। पुलिस ने मुकदमा तो दर्ज कर लिया है। देखना अब यह होगा कि सरेआम बंदूक और तमंचे लहराने वाले और कानून को ठेंगा दिखाकर बर्थडे पार्टी का आयोजन करने वाले इन आयोजकों और इसमें शामिल होने वाले लोगों पर पुलिस प्रशासन क्या कार्रवाई करता है।

प्रतिबंध की उड़ी धज्जियां, तमंचा लहराकर मनाई गई बर्थडे पार्टी, डाकू रामबाबू के नाम के लगे नारे