पुलिस की बड़ी कार्रवाई, लाखों रुपए ठगने वाले गिरोह का पर्दाफाश, हजारों रुपए बरामद

आरोपियो ने अभी तक सिर्फ जबलपुर में ही अलग-अलग एटीएम में जाकर 92 लाख रु की ठगी को अंजाम दिया है।

जबलपुर, संदीप कुमार। बैंक में बैठे पढ़े-लिखे अधिकारियों को भी आसानी से बेवकूफ बनाकर उनसे लाखो रु ऐंठने वाले गिरोह के दो सदस्यों को जबलपुर पुलिस ने गिरफ्तार करने में कामयाबी पाई है। पुलिस ने आरोपियो के पास से साढ़े 11 हजार रु नगद बरामद किए है। इस गिरोह ने एसबीआई बैंक से करीब 92 लाख रु की ठगी की है। इस गिरोह में पाँच सदस्य है। जिसमे की दो ओमती पुलिस की हिरासत में है जबकि 3 अभी फरार बताए जा रहे है। पुलिस के मुताबिक आरोपी हरियाणा के रहने वाले है और मध्यप्रदेश में काफी समय से सक्रिय है।

आप भी जाने किस तरह करते थे ठगी

जानकारी के मुताबिक आरोपी पहले किसी भी एटीएम मशीन में जाकर रु का ट्रांजेक्शन करते और फिर बडी ही चालाकी से ट्रांजेक्शन फैल दिखाकर उस बैंक में जाते जहाँ का एटीएम होता है। बैंक जाकर आरोपी रु एटीएम मशीन में रु फ़साना बताकर बैंक से रु वसूल कर लिया करते थे। आरोपियो ने अभी तक सिर्फ जबलपुर में ही अलग-अलग एटीएम में जाकर 92 लाख रु की ठगी को अंजाम दिया है।

Read More: ग्वालियर में कोरोना ब्लास्ट, 985 पॉजिटिव मरीज आये सामने, 5 की मौत

पाँच में से तीन आरोपी गिरफ्तार

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की शिकायत पर ओमती थाना पुलिस ने इस गिरोह की तलाश करना शुरू कर दिए। कुछ एटीएम में जांच के दौरान वहाँ लगे सीसीटीवी फुटेज देखे गए। जहाँ पाया गया कि कुछ लोग शहर के अलग-अलग एटीएम मशीन में जाकर ट्रांजेक्शन कर रहे है। पुलिस को इन पर शक हुआ है और सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई शक्ल की तलाशी में ओमती पुलिस जुट गई। जहाँ गिरोह के दो सदस्य पुलिस के हाथ लगें,जबकि तीन अभी भी फरार है।

बिना गार्ड के एटीएम को बनाया करते थे निशाना

ओमती पुलिस ने एटीएम मशीन के जरिये ठगी करने वाले दो आरोपी इंजमामउल हक और शाबिर हुसैन को गिरफ्तार किया है। जबकि तीन आरोपी मोहम्मद हुसैन-शमीम और अजरुद्दीन अभी फरार है। जिनकी तलाश में पुलिस जुटी हुई है। बताया जा रहा है ये आरोपी हरियाणा के रहने वाले है। जिनके तार देश के कई राज्यो में फैले हुए है। पुलिस के मुताबिक आरोपी उस एटीएम को निशाना बनाया करते थे। जहाँ की गार्ड नही हुआ करता था।