भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (madhya pradesh) में रोजगार (employment) को बढ़ावा देने के लिए शिवराज सरकार (shivraj government) बड़ा कदम उठाने जा रही है। दरअसल स्वरोजगार को बढ़ावा देने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से 1891 सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (Micro, Small and Medium Enterprises) का शुभारंभ कर रहे हैं। बता दें कि इस उद्यम के शुरू होने के लिए 4200 करोड़ रुपए का निवेश किया गया। वहीं 50 हजार युवाओं को रोजगार मिलेंगे।

दरअसल मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान प्रदेशव्यापी 1891 सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों का वर्चुअल शुभारंभ कर रहे हैं। जिससे प्रदेश के युवाओं को रोजगार प्राप्त होगा। सीएम शिवराज द्वारा खरगोन में नवीन कलेक्टर भवन का भी शुभारंभ किया गया। सीएम शिवराज ने कहा कि कोरोना लॉक डाउन ने अर्थव्यवस्था ध्वस्त कर दी थी, लेकिन हमने फिर उस अर्थव्यवस्था को खड़ा करने का प्रयास किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के आह्वान पर हमने आत्मनिर्भर भारत  के लिये आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश का रोड मैप तैयार किया। हमारा लक्ष्य है हर महीने 1 लाख और साल भर में 12 लाख रोजगार सृजित करना। हम इसे पूरा करने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे और इसे पूरा करने के सबसे बड़े माध्यम एमएसएमई रहेंगे।

आगे बोलते हुए सीएम शिवराज ने कहा कि नई क्लस्टर विकास नीति में उद्यमी अपने डिजाइन से शासकीय भूमि पर क्लस्टर बना सकेंगे। MSME उद्यमों को अंतर राष्ट्रीय बाजार मिले इसके लिये e-commerce पोर्टल से जोड़ने का कार्यक्रम जारी है। मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना उद्योगों के भार वहन करने में मदद करेगी। लघु कुटीर उद्योग सबसे ज्यादा रोजगार देते हैं। प्रदेश के जिलों में स्थापित उद्यम देश दुनिया में उत्पाद भेज रहे हैं। हिम्मत करो और रोजगार देने वाले बनो। ये असंभव नहीं है।

सीएम शिवराज ने कहा कि दिक्कतों के समाधान के लिये हमने नीति बनाई है। Start Your Business in 30 Days. सारे approval 30 दिन में मिलें और आपके सारे परेशानी हम दूर करेंगे। उद्योगों के सर्वांगीण विकास के लिये नई MSME नीति बनाई है। प्रदेश की समृद्धि का रास्ता उद्योगों से होकर जाता है।

Read More: बिना मास्क निकले, टोकने पर करने लगे बहस, अधिकारी ने सिखाया सबक, वीडियो वायरल

वही कार्यक्रम के मौके पर मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा ने कहा प्रदेश में जहां जिस चीज के कलस्टर की गुंजाइश हो। उसके सुझाव सरकार को भेजे जाएं। अगले 2 महीने में शिवराज सरकार 3000 नए उद्योग शुरू करने वाली है। इससे प्रदेश में दो लाख से ज्यादा नए रोजगार सृजन होंगे। ओमप्रकाश सकलेचा ने कहा कि कृषि के बाद प्रदेश में सबसे ज्यादा रोजगार कोई दे सकता है तो वह एमएसएमई से ही संभव है।

जिसके लिए कई कलस्टर पार्क बनाए गए हैं और मार्च में ही ये स्वीकृत किए गए हैं। मंत्री सकलेचा ने कहा कि मध्य प्रदेश में पहली बार अलग-अलग कलस्टर बनाकर रोजगार देने के लिए अभियान को तेज किया गया है। जिससे 15000 लोगों को रोजगार दिए जाएंगे।