बढ़ रहा Twitter पर विवाद, BJP नेता ने जताई आपत्ति, यूजर्स ने लगाया #TirangaTick

दूसरी तरफ यूजर्स द्वारा बीजेपी नेताओं के ब्लू टिक हटाने पर स्थिति गंभीर हो गई है। कई यूजर्स (users) ने ट्विटर पर #TirangaTick को ट्रेंड (trend) करना शुरू कर दिया है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। माइक्रोब्लॉगिंग Twitter के साथ विवाद अब गरमा गया है शनिवार को Twitter द्वारा भारत के उपराष्ट्रपति एम के वेंकैया नायडू सहित RSS प्रमुख मोहन भागवत (mohan bhagwat) और अन्य पदाधिकारियों के ट्विटर हैंडल से ब्लू टिक (blue tick) हटा दिया गया था। Twitter द्वारा ब्लू टिक हटाने के मामले में अब तक कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया गया है। हालांकि सरकार की सख्ती और यूजर्स के रोष के बाद वेंकैया नायडू के ट्विटर अकाउंट को फिर से वेरीफाइड (verified) कर दिया गया है लेकिन संघ के नेताओं के ब्लू टिक लगातार हटाए जा रहे हैं। हालांकि इस पर BJP नेताओं ने आपत्ती लेनी शुरू कर दी है। Twitter यूजर द्वारा नाराजगी जाहिर की गई है। वहीं ट्विटर यूजर्स द्वारा ट्विटर पर #TirangaTick नाम से अभियान चलाए जा रहे हैं।

दरअसल बीजेपी के प्रदेश मंत्री सुरेंद्र शर्मा ने ट्वीट कर ट्विटर द्वारा अनवेरीफाइड अकाउंट (unverified account) पर आपत्ति जताई है। प्रदेश मंत्री सुरेंद्र शर्मा ने कहा कि मृतक बीजेपी नेताओं के नाम अभी वेरीफाइड है तो संघ के नेताओं के नाम से ब्लू टिक क्यों हटाया जा रहा है। इसके साथ ही सुरेंद्र शर्मा ने केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्रालय (Union Ministry of Information and Broadcasting) से अपील की है कि भारत में ट्विटर पर प्रतिबंध लगाया जाए।

Read More: MP Weather: मप्र के इन 10 संभागों में बारिश का येलो अलर्ट, प्री-मानसून गतिविधियां रहेंगी जारी

दूसरी तरफ यूजर्स द्वारा बीजेपी नेताओं के ब्लू टिक हटाने पर स्थिति गंभीर हो गई है। कई यूजर्स (users) ने ट्विटर पर #TirangaTick को ट्रेंड (trend) करना शुरू कर दिया है। इसके साथ ही साथ कई यूजर्स द्वारा अपने नाम के पीछे तिरंगा लगा लिया गया है। बता दें कि मामला तब गरमाया, शनिवार सुबह उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के निजी टि्वटर हैंडल से Blue Tick हटा दिया गया था।

हालांकि 2 घंटे के अंदर उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के ट्विटर हैंडल को वेरीफाइड कर दिया गया लेकिन RSS  प्रमुख मोहन भागवत समेत अरुण कुमार, सुरेश सोनी और भैयाजी जोशी के Blue Tick को हटा दिया गया। जिसके बाद से ट्विटर की मनमानी पर लगातार यूजर्स का गुस्सा तेज होता जा रहा है। हालांकि ट्विटर की तरफ से सरकार के सामने ये बात जरूर रखी गई है कि 6 माह से अकाउंट एक्टिव नहीं होने की वजह से ब्लू टिक को हटाया गया है। इस पर सरकार द्वारा दिवंगत नेताओं के अकाउंट का हवाला दिया गया है।

Users Review