MP News

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। पिछले साल कोरोना महामारी (Corona epidemic) से हुए हाहाकार के बीच इस साल वैक्सीन (vaccine) की खबर ने राहत दी है। देशभर में 16 जनवरी से कोरोना का टीकाकरण शुरू किया जाएगा। इससे पहले आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (prieminister Narendra Modi) देश भर के मुख्यमंत्रियों के साथ कोरोना वैक्सीन को लेकर बैठक करेंगे। ऑनलाइन माध्यम से हो रहे इस बैठक में कोरोना वैक्सीन के टीकाकरण को लेकर विचार-विमर्श किया जाएगा।

दरअसल आज 11 जनवरी शाम 4:00 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के सभी मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअली बैठक करेंगे। जिसमें कोरोना वैक्सीन के टीकाकरण पर चर्चा की जाएगी बता दें कि यह बैठक ऐसे समय में हो रही है जब प्रदेश के कई हिस्सों में कोरोना वैक्सीन की पहली खेप पहुंचने वाली है।

देश भर में कोरोना का काउंटडाउन शुरू हो गया है। 16 जनवरी से कोरोना के मरीजों को वैक्सीन का टीकाकरण लगना शुरू हो जाएगा। इसके लिए मोदी सरकार ने तैयारी पूरी कर ली है। जिसपर आज पीएम मोदी देश के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक करेंगे। इस बैठक में टीकाकरण कार्यक्रम के रोडमैप और चुनौतियों के बारे में भी विस्तार से चर्चा की जाएगी। बता दे कि देश के कई मुख्यमंत्रियों ने बैठक से पहले ही सवालों की बड़ी लिस्ट तैयार की है।

Read More: MP News: धान उपार्जन समितियों का बड़ा घोटाला, किसान हो रहे गुमराह, व्यापारियों को लाभ

हालांकि कोरोना वैक्सीनेशन के लिए अभी टीके की कीमत तय नहीं की गई है। जिस पर मुख्यमंत्री इस बैठक में चर्चा करेंगे। वहीं केंद्र सरकार जहां राज्य सरकार से टीके की कीमत वसूलना चाहेगी। वहीं राज्य सरकार कोरोना टीके का खर्च पीएम केयर्स फंड (PM Care Funds) से देने की पेशकश करेगी। बता दें कि इस मुद्दे पर 8 बार पहले भी पीएम मोदी ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से चर्चा की है।

ज्ञात हो कि भारत जैसे घनी आबादी वाले देशों में कोरोना वैक्सीनेशन के लिए व्यापक तैयारियां की है। दूसरी तरफ बैठक से पहले ही पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्वारा ऐलान किया गया है कि बंगाल में सभी लोगों का टीकाकरण मुक्त किया जाएगा। अब ऐसे में मोदी सरकार द्वारा कुरौना वैक्सीनेशन के लिए की जा रही इस बैठक को महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

गौरतलब हो कि कोरोना वैक्सीन का सबसे पहला डोज स्वास्थ्य कर्मियों को लगाया जाएगा। जिसके बाद 50 साल से ऊपर के लोगों को जो गंभीर बीमारी से पीड़ित है वैक्सीनेशन का टीकाकरण किया जाएगा। इसके बाद ही आम जनता तक वैक्सीनेशन की खेप पहुंचेगी।