सागर, अतुल मिश्रा। दुर्ग छत्तीसगढ़ से एक कार में अवैध रूप से तस्करी के जरिये आठ किलो सोना सागर लाने की जानकारी मिली। जानकारी मिलने पर DRI भोपाल की टीम ने सागर पुलिस के साथ चितौरा के पास हाइवे पर सोमवार दोपहर के समय एक स्विफ्ट कार को रोक कर चेकिंग की। चेकिंग के दौरान कार में स्टेपनी रखने की जगह पर सोने की प्लेटें छुपा कर रखी गई थी। इन सोने की प्लेटों का वजन आठ किलो है जिसकी कीमत लगभग चार करोड़ से अधिक आंकी गई है। आठ किलो सोना लाये जाने के बिल जीएसटी अन्य कागज मांगने पर कार में सवार चारो युवक कुछ भी जबाब नही दे पाए।

इस पर डायरेक्टर ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस की टीम ने सोना और कार सहित चारो युवकों को अपने साथ सागर सिविल लाइन आफिस में लाई। जंहा देर रात तक चारो युवकों से गहन पूंछतांछ की गई। सूत्रों के बताए अनुसार इंटेलिजेंस टीम को युवकों ने बताया कि वह दुर्ग छत्तीसगढ़ से यह सोना तस्करी कर ला रहे है। वैभव जैन बड़ा बाजार निवासी और तीन अन्य साथी लंबे समय से सोने की तस्करी का कार्य कर रहे थे।

Read More: शिवपुरी : माफिया खुलेआम कर रहे अवैध रेत खनन, रोकने वाला कोई नहीं

पूछताछ के बाद चारो आरोपियों को जेल भेज दिया गया है।  बताया गया है कि दुर्ग से ही डायरेक्टर ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस को सूचना मिली थी कि वंहा से एक कार में करोड़ो रुपए का सोना तस्करी कर सागर भेज जा रहा है। जानकारी मिलने पर रेवेन्यू इंटेलिजेंस भोपाल की टीम जिसमे दो इंस्पेक्टर स्तर के तथा एक वरिष्ठ अधिकारी के साथ तीन सदस्यी टीम सागर पहुची। पुलिस प्रशासन को साथ लेकर इस बड़े मामले को पकड़ने में सफलता प्राप्त की है।

विभागीय अधिकारियों का कहना है सोने की इतनी बड़ी मात्रा में तस्करी करते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार हुए आरोपियों को 60 दिन तक जमानत नही मिल सकेगी। जांच टीम अब पूरे मामले की तह में जाने और किंतने व्यापारी कारोबारी, तस्करी का सोना खरीद एवं गला रहे है। उस सभी की विवेचना शुरू कर दी गई है। गौरतलाब है कि सागर सराफा का कारोबार करने वाला बड़ा केंद्र है। अधिकारियो को अंदेशा है कि पूंछतांछ में और भी जानकारी सामने आ सकती है। रेवेन्यू टीम मंगलवार की सुबह भोपाल रवाना हो गई ।