कांग्रेस अनुशासन समिति के पास पहुंचा गोविंद सिंह का मामला, जल्द होगी कार्रवाई

माना जा रहा है कि जल्द ही अनुशासन समिति द्वारा बैठक प्रस्तावित किया जाएगा और इस मामले की चर्चा की जाएगी।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश उपचुनाव (Madhya Pradesh by-election) के बाद से ही कांग्रेस (congress) में लगातार भितरघात की खबर सामने आ रही है। जहां प्रदेश के वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और पूर्व मंत्री गोविंद सिंह (Govind singh) इन आरोपों से बच नहीं पाए। उनके खिलाफ पार्टी के लोगों द्वारा निंदा प्रस्ताव पारित किया गया था। जिसके बाद अब डॉक्टर गोविंद सिंह का मामला शुक्रवार को कांग्रेस के प्रदेश अनुशासन समिति के पास पहुंचा है। इसके बाद जल्द ही इस मामले में कार्रवाई की चर्चा तेज हो गई है।

दरअसल उपचुनाव में करारी शिकस्त झेलने के बाद पीसीसी चीफ कमलनाथ ने पार्टी नेताओं पर एक्शन लेने का काम किया था। जहां पार्टी के विरुद्ध गतिविधि करने वाले एवं भितरघात में शामिल लोगों को चिन्हित किया गया था। इस मामले में चर्चा तब और गरमा गई जब भिंड जिला अध्यक्ष जय श्रीराम बघेल ने पूर्व मंत्री डॉक्टर गोविंद सिंह पर आरोपों की बौछार कर दी।

भिंड जिला अध्यक्ष श्रीराम बघेल का आरोप था उपचुनाव में गोविंद सिंह ने बीजेपी का पक्ष लिया। जिससे कांग्रेस प्रत्याशी हेमंत कटारे की हार हुई थी। इस मामले में उनके खिलाफ निंदा प्रस्ताव भी पारित किया गया था। जिसके बाद मामले को तूल पकड़ते ही पीसीसी चीफ कमलनाथ ने जिलाध्यक्ष से रिपोर्ट मांगी थी।

Read More: सीबीडीटी की रिपोर्ट में कई खुलासे, दिग्विजय सिंह सहित इन नेताओं का नाम शामिल, हड़कंप

रिपोर्ट में कहा गया कि मेहगांव विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी को हराने के लिए पार्टी नेताओं की ही संलिप्तता रही थी। इसके साथ ही लहार विधानसभा की मेहुना नगर पंचायत अध्यक्ष शिव मोहन सिंह और जनपद अध्यक्ष गोपाल सिंह और राहुल भदोरिया पर भी आरोप लगाए गए हैं कि उन्होंने भाजपा प्रत्याशी के पक्ष में बूथ कैप्चरिंग करवाई। जिसके बाद अब यह मामला कांग्रेस के प्रदेश अनुशासन समिति के पास पहुंच गया है। वही माना जा रहा है कि जल्द ही अनुशासन समिति द्वारा बैठक प्रस्तावित किया जाएगा और इस मामले की चर्चा की जाएगी।

इससे पहले सोमवार को पूर्व मंत्री और लहार के विधायक गोविंद सिंह ने पार्टी के लोगों को संबोधित करते हुए कहा था कि 2018 का विधानसभा चुनाव उनके जीवन का आखरी चुनाव है। जबकि अपना बचा समय वह लहार विधानसभा के विकास के लिए लगाएंगे। बता दें कि गोविंद सिंह पहले भी यह बात कह चुके हैं कि अब वह चुनाव नहीं लड़ेंगे। इतना ही नहीं गोविंद सिंह ने यह भी दावा किया है कि ग्वालियर चंबल संभाग में लहार विधानसभा क्षेत्र की सभी निकाय सीटों पर कांग्रेस की जीत होगी।