MP में लॉकडाउन और बाजार बंद पर नरोत्तम मिश्रा का बड़ा बयान, बोले गृह मंत्री- रहे सचेत

सभी को गाइडलाइन का पालन करना अनिवार्य होगा। रात्रिकालीन कर्फ्यू जारी रहेगा।

नरोत्तम मिश्रा

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश में 24 घंटे में 1033 मामले सामने आये हैं। Corona केसों (MP Corona cases) में बढ़ोतरी को देखते हुए राज्य सरकार द्वारा नई गाइडलाइन (New Guideline) जारी की गई। हालांकि इसके साथ ही प्रदेश में Lockdown को लेकर कई तरह की अफवाह भी देखने को मिल रही है। इन अफवाहों के बीच गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा (narottam mishra) का बड़ा बयान सामने आया है। मीडिया से चर्चा के दौरान प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि वर्तमान में प्रदेश में Lockdown- बाजार बंद करने का कोई भी प्रस्ताव विचाराधीन नहीं है।

गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने लोगों से इन अफवाहों से खुद को दूर रखने सहित कोरोना गाइडलाइन का पालन करने की अपील की है। नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि तीसरी लहर को रोकने के लिए कोरोना प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन कराने की तैयारी की गई है। उल्लंघन करने वालों को खुली जेल और मास्क नहीं लगाने पर जुर्माना बढ़ाने पर विचार किया जा रहा है। गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि सीएम शिवराज स्वयं कई बैठक ले रहे हैं। बीते दिनों उन्होंने कोरोना गाइड लाइन तय की है। सभी को गाइडलाइन का पालन करना अनिवार्य होगा। रात्रिकालीन कर्फ्यू जारी रहेगा।

Read More : MPPSC : राज्य सेवा परीक्षा 2019 के परिणाम घोषित, रिजल्ट में गड़बड़ी को लेकर 10 जनवरी को होगी सुनवाई

पंजाब में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा व्यवस्था में हुई चूक पर गृह मंत्री नरोत्तम ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को घेरा। उन्होंने कहा कि सोनिया गांधी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में हुई चूक पर स्पष्टीकरण देना चाहिए। गृहमंत्री मिश्रा ने कहा कि पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू भी घटना पर पूरी तरह से खामोश है जबकि कैप्टन अमरिंदर पहले भी सिद्धू के पाकिस्तान कनेक्शन पर सवाल खड़े कर चुके हैं।

गृह मंत्री ने कहा कि घटना के 16 घंटे बीत चुके हैं। बावजूद इसके अब तक नवजोत सिंह सिद्धू पूरी तरह से खामोश नजर आ रहे हैं। पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष होते हुए भी उनकी तरफ से कोई बयान नहीं आया है। नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस को यह समझना चाहिए कि यह पीएम मोदी का नहीं बल्कि पूरे देश की सुरक्षा व्यवस्था का सवाल है। ऐसे में कांग्रेस को स्पष्टीकरण के लिए सामने आना चाहिए।