Jabalpur News: 11 लाख रुपए के साथ संदिग्ध गिरफ्तार, आरपीएफ पुलिस की बड़ी कार्रवाई

कोरोना काल के बाद से लगातार हवाला के रुपए का आदान-प्रदान रेल मार्ग से ही किया जा रहा है। बीते 6 माह के दौरान आरपीएफ और जीआरपी पुलिस ने मिलकर हवाला के करोड़ों रुपए जब्त करने की कार्यवाही की है।

Jabalpur News

जबलपुर, संदीप कुमार। जबलपुर की आरपीएफ पुलिस ने आज एक बार फिर हवाला के जरिए इधर से उधर किए जा रहे लाखों रुपए के साथ एक युवक को गिरफ्तार किया है। युवक मूलतःजबलपुर का रहने वाला है और 11 लाख रु लेकर वह ट्रेन के माध्यम से मुंबई जा रहा था। इसी दौरान आरपीएफ ने जबलपुर रेलवे स्टेशन में उसे गिरफ्तार कर लिया।

संदिग्ध दिख रही थी युवक की गतिविधियां

आरपीएफ पुलिस के मुताबिक बुधवार की रात जब जबलपुर रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक पर चेकिंग की जा रही थी। उसी दौरान पाया गया कि एक युवक जो कि संदिग्ध लग रहा है और पुलिस को देखते ही छिपने लगा तो उसे पकड़ कर पूछताछ की गई। तब उसने अपना नाम अनिल सोनी जबलपुर सराफा निवासी बताया, अनिल सोनी के पास एक बैग था। उस बैग में जब आरपीएफ ने तलाशी ली तो उस बैग में 11 लाख रुपए मिले।

इतनी बड़ी रकम की युवक नहीं दे पाया जानकारी

युवक अनिल सोनी से जब आरपीएफ ने 11 लाख रुपए के विषय में जानकारी मांगी तो वह कुछ भी जवाब नहीं दे पाया। युवक अनिल सोनी ने बताया कि वह है सराफा का काम करता है और यह 11 लाख रुपए लेकर मुंबई जा रहा था। हालांकि उसने अभी तक पूछताछ के दौरान यह नहीं बताया है कि मुंबई में इन रुपए को वह किसे देने वाला था।

Read More: शिवराज सरकार की नई शुरुआत, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को अलग से मिलेगी राशि

हवाला का है यह रुपए आयकर विभाग को दी गई सूचना

आरपीएफ को जब युवक अनिल सोनी से किसी भी तरह का संतोषजनक जवाब नहीं मिला तो पुलिस ने उसे थाने में लाकर बैठा दिया। वही आरपीएफ ने इन 11लाख रु की जानकारी आयकर विभाग को भी दे दी है। बताया जा रहा है कि युवक अनिल सोनी 11 लाख रुपए को लेकर मुंबई जा रहा था और संभवत हवाला का यह रुपए हैरुपए जिससे कि वह किसी को वहां पर देने वाला था।

हवाला के रुपए का गढ़ बन चुका है जबलपुर

कोरोना काल के बाद से लगातार हवाला के रुपए का आदान-प्रदान रेल मार्ग से ही किया जा रहा है। बीते 6 माह के दौरान आरपीएफ और जीआरपी पुलिस ने मिलकर हवाला के करोड़ों रुपए जप्त करने की कार्यवाही की है। हालांकि इस पूरी कार्रवाई के दौरान अभी तक आरपीएफ और जीआरपी ने इस बात का खुलासा नहीं किया है कि आखिर यह लोग कौन थे और हवाला के यह रुपए किसे दिए जाना था। फिलहाल आज एक बार फिर हवाला के 11 लाख रुपए पकड़ने में आरपीएफ ने सफलता पाई है।